0

Best Gulzar Shayari in waqt | waqt gulzar shayari in hindi 2020

68 / 100

best gulzar shayari in yaadein , gulzar shayrai in hindi , shayari in motivation ,gulzar shayari in love , gulzar shayari in dosti …

Gulzar shayari in waqt 

आप एक बात हमेशा याद रखे
की आपकी सभी प्रॉब्लम से
आप कही ज्यादा बड़े हो .
aap ek baat hamesha
yaad rakhe kee aapakee
sabhee problam se aap
kahee jyaada bade ho .

हैरान हूं मैं दिल अब पहले सा
मासूम नहीं रहा पत्थर तो नहीं
बना मगर अब मोम भी नहीं रहा .
hairaan hoon main dil ab
pahale sa maasoom nahin
raha patthar to nahin bana
magar ab mom bhee nahin raha .

टूटे हुए दिल भी ड़कता है उम्र भर ,
चाहे किसी की याद में या फिर
किसी फ़रियाद में .. !!
toote hue dil bhee dakata hai
umr bhar , chaahe kisee kee
yaad mein ya phir kisee
fariyaad mein .. !!

जिन्दगी ये तेरी खरोंचे है मुझ पर
या तू मुझे तराशने की कोशिश में है .
jindagee ye teree kharonche
hai mujh par ya too mujhe
taraashane kee koshish mein hai .

सबकी राहों में नहीं होती है
चादर फूलों की किसी की
तकदीर होती है इगर फलों
की ज़िन्दगी क्या होती है ,
जरा उदाणे जिनके घर रोज
जंग होती है भव मामलों की .
sabakee raahon mein nahin
hotee hai chaadar phoolon
kee kisee kee takadeer hotee
hai igar phalon kee zindagee
kya hotee hai , jara udaane
jinake ghar roj jang hotee
hai bhav maamalon kee .

Waqt shayari in hindi

थोड़ा सकून भी तो ढूंढिए जनाब
यह जरूरतें तो कभी ख़त्म ही नहीं होंगी .
thoda sakoon bhee to dhoondhie
janaab yah jarooraten to kabhee
khatm hee nahin hongee .

एलगता है जिंदगी आज कुछ ख़फ़ा है
चलिए छोड़िए कौन सी पहली दफ़ा है .
elagata hai jindagee aaj kuchh
khafa hai chalie chhodie kaun
see pahalee dafa hai .

तुम ने तो आकाश बिछाया मेरे नंगे पैरों
में जमीन है पाके भी तुम्हारी आरजू है
शायद ऐसी ज़िंदगी हसीं है आरजू में
बहने दो प्यासी हूँ मैं , प्यासी रहने दो
रहने दो ना ….
tum ne to aakaash bichhaaya
mere nange pairon mein jameen
hai paake bhee tumhaaree aarajoo
hai shaayad aisee zindagee haseen
hai aarajoo mein bahane do pyaasee
hoon main , pyaasee rahane do
rahane do na ….

उम्र और ज़िन्दगी में बस फर्क इतना ..
जो दोस्तों बिन बीती वो उम्र और जो
दोस्तों संग गुज़री वो ज़िन्दगी .
umr aur zindagee mein bas
phark itana .. jo doston bin
beetee vo umr aur jo doston
sang guzaree vo zindagee .

शौक ख्वाब का है और नींद आये ना
झूठ बोलता है रोज – रोज आईना मैं
कहूँ कि यु तो दिल कहे यूँ नहीं जानता है
सब मगर समझ में आये ना साँस जो
सुलगती है तो आँख जलती है क्या पता
ये दिल की है या मेरी गलती है किसको
में मनाऊ करूँ दुआ उड़ा आईना …
shauk khvaab ka hai aur neend
aaye na jhooth bolata hai roj – roj
aaeena main kahoon ki yu to dil
kahe yoon nahin jaanata hai sab
magar samajh mein aaye na
saans jo sulagatee hai to aankh
jalatee hai kya pata ye dil kee hai
ya meree galatee hai kisako mein
manaoo karoon dua uda aaeena …

gulzar shayari in hindi

मुसाफिर थे , चले तुम भी ,
चले हम भी । मिली जब राह ,
मिले तुम भी , मिले हम भी ।
हुए गुलज़ार , खिले तुम भी ,
खिले हम भी । सिलसिले ,
जो होगये , सो होगये ,
भले तुम भी , भले हम भी ।
वक्त की आग में , अनंत !
जले तुम भी , जले हम भी ।
musaaphir the , chale tum bhee ,
chale ham bhee . milee jab raah ,
mile tum bhee , mile ham bhee .
hue gulazaar , khile tum bhee ,
khile ham bhee . silasile ,
jo hogaye , so hogaye ,
bhale tum bhee , bhale ham bhee .
vakt kee aag mein , anant !
jale tum bhee , jale ham bhee .

तेरे बिना जिन्दगी से कोई
शिकवा तो नही ..
काश ऐसा हो , तेरे कदमो से ,
चुन के मंजिल चले और कहीं ,
दूर कहीं तुम गर साथ हो ,
मंजिलों की कमी तो नही ..
tere bina jindagee se koee
shikava to nahee ..
kaash aisa ho , tere kadamo se ,
chun ke manjil chale aur kaheen ,
door kaheen tum gar saath ho ,
manjilon kee kamee to nahee ..

साँस तेज़ है बुखार तो नहीं नब्ज़
देखना ही प्यार तो नहीं प्यार में
अजीब ये रिवाज़ है रोग भी वही है
जो इलाज़ है बार – बार मरने की है
आरजू एक में और एक तू ..
saans tez hai bukhaar to
nahin nabz dekhana hee
pyaar to nahin pyaar mein
ajeeb ye rivaaz hai rog bhee
vahee hai jo ilaaz hai
baar – baar marane kee hai
aarajoo ek mein aur ek too ..

रिश्ते जब मजबूत होते हैं ,
बिन कहे महसूस होते हैं ..
rishte jab majaboot hote hain ,
bin kahe mahasoos hote hain ..

नहीं बदल सकते है हम खुद को
औरों के हिसाब से एक लिबास
हमें भी दिया है खुदा ने अपने
हिसाब से .
nahin badal sakate hai ham
khud ko auron ke hisaab se ek
libaas hamen bhee diya hai
khuda ne apane hisaab se .

एक ही खूवाब ने सारी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की .
ek hee khoovaab ne saaree
raat jagaaya hai mainne har
karavat sone kee koshish kee.

Gulzar Waqt Shayari

वक़्त बड़ा धारदार होता है
कट तो जाता है मगर बहुत
कुछ काटने के बाद .
vaqt bada dhaaradaar
hota hai kat to jaata hai
magar bahut kuchh kaatane
ke baad .

अच्छा वक़्त बुरे वक़्त को भुला देता है
खुशी से भरा वक़्त गम को भुला देता है
पर कुछ दर्द गहरे होते हैं जो वक़्त नहीं
मिटा पता है .
achchha vaqt bure vaqt ko
bhula deta hai khushee se
bhara vaqt gam ko bhula
deta hai par kuchh dard
gahare hote hain jo vaqt
nahin mita pata hai .

वक्त तो होता ही है ,
बदलने के लिये ठहरते
तो बस लम्हे है ..
vakt . to hota hee hai ,
badalane ke liye thaharate
to bas lamhe hai ..

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है .
khulee kitaab ke safhe ulatate
rahate hain hava chale na chale
din palatate rahate hai .

अब शाम नहीं बस दिन ढलता है .
शायद वक़्त सिमट रहा है .
ab shaam nahin bas din
dhalata hai … shaayad vaqt
simat raha hai .

एक अजीब सा रिश्ता है
मेरे और ख्वाहिशों के दरमियाँ !!
वो मुझे जीने नहीं देतीं और मैं
उन्हें मरने नही देता !!!
ek ajeeb sa rishta hai mere
aur khvaahishon ke daramiyaan !!
vo mujhe jeene nahin deteen aur
main unhen marane nahee deta !!!

Shayari waqt in hindi

आदतन तुम ने कर दिए वादे आदतन
हम ने ऐतबार किया तेरी राहो में बारहा
स्क कर हम ने अपना ही इंतज़ार किया
अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब ये गुनाह
हम ने एक बार किया .
aadatan tum ne kar die vaade
aadatan ham ne aitabaar kiya
teree raaho mein baaraha sk
kar ham ne apana hee intazaar
kiya ab na maangenge jindagee
ya rab ye gunaah ham ne ek
baar kiya .

बिछड़ते वक्त मेरेऐब गिनाये कुछ लोगों ने ..
सोचती हु जब मिली थी तब कौन सा
हुनरथा मुझ में ||
bichhadate vakt mereaib
ginaaye kuchh logon ne ..
sochatee hu jab milee thee
tab kaun sa hunaratha
mujh mein ||

थोड़ा सकून भी तो ढूंढिए जनाब यह
जरूरतें तो कभी ख़त्म ही नहीं होंगी .
thoda sakoon bhee to dhoondhie
janaab yah jarooraten to kabhee
khatm hee nahin hongee .

बदल जाओ वक़्त के सार्थ
या यकृत बदलना सीखो ,
मजबूरियों को मत कोसो ,
हर हाल में चलना सीखो !
badal jao vaqt ke saarth
ya yakrt badalana seekho ,
majabooriyon ko mat koso ,
har haal mein chalana seekho !

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते .
haath chhoote bhee to rishte
nahin chhoda karate vaqt kee
shaakh se lamhe nahin toda karate .

वक्त – वक़्त की बात है कल जो रंग थे ,
आज दाग हो गए ..
vakt – vaqt kee baat hai kal jo
rang the , aaj daag ho gae ..

शौक ख्वाब का है और नींद आये
ना झूठ बोलता है रोज – रोज आईना
मैं कहूँ कि यु तो दिल कहे यूँ नहीं
जानता है सब मगर समझ में आये
ना साँस जो सुलगती है तो आँख
जलती है क्या पता ये दिल की है
या मेरी गलती है किसको में मनाऊ
करूँ दुआ उड़ा आईना …
shauk khvaab ka hai aur neend
aaye na jhooth bolata hai roj – roj
aaeena main kahoon ki yu to
dil kahe yoon nahin jaanata hai
sab magar samajh mein aaye
na saans jo sulagatee hai to
aankh jalatee hai kya pata ye
dil kee hai ya meree galatee
hai kisako mein manaoo karoon
dua uda aaeena …

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *