0

Best Gulzar shayari in hindi | Shayari of gulzar | Gulzar ki shayari 2020

87 / 100
Gulzar Shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi
Best Shayari of Gulzar, Shayari of Gulzar in Hindi

Gulzar Shayari:


“शायर बनना बहुत आसान हैं…
बस एक अधूरी मोहब्बत की
मुकम्मल डिग्री चाहिए…!!

Shaayar Banana Bahut Aasaan Hain…
Bas Ek Adhoori Mohabbat ki,
Mukammal Degree Chaahey…!!”

“कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छीन लेती हैं…!!”

“Kuchh alag karana ho to bheed se hat,
ke chaley bheed saahas to dethi hain
magar pahachaan chheen leyte hain…!!”

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है!

Shaam se aankh mein nami se hai,
Aaj phir aap ki kami se hai!

gulzar shayari


Gulzar Shayri On Life:

gulzar shayari for love


पलक से पानी गिरा है,
तो उसको गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना,
पिंघल रही होगी ..!

Palak se paani gira hai,
To usako girane do koi ,
Puraani tamanna,
Pinghal rahi hogi.

“तकलीफ़ ख़ुद की कम हो गयी,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गईं…!!”

Takaleef khud ki kam ho gayee,
Jab apanon se ummeed kam ho gaeen…!!

देख दर्द किसी और का आह दिल से निकल जाती है,
बस इतनी सी बात तो आदमी को इंसान बनाती है!

Dekh dard kisi aur ka aah dil se nikal jaati hai,
Bas itani se baat to aadami ko insaan banaati hai!

“एक सपने के टूटकर
चकनाचूर हो जाने के बाद..
दूसरा सपना देखने के हौसले
को ‘ज़िंदगी’ कहते हैं..!!

Ek sapane ke tootakar chakanaachoor ,
Ho jaane ke baad.. doosara sapana ,
Dekhane ke hausale ko ‘zindagi’ kahate hain..!!

Gulzar sahab ki shayari:


तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था,
मगर नींद नहीं…!!”

Tere jaane se to kuchh badala nahin,
Raat bhi aayi aur chaand bhi tha,
Magar neend nahin…!!

कही किसी रोज़ यु भी होता ,
हमारी हालत तुम्हारी होती
जो रात हमने गुजारी मरके ,
वो रात तुमने गुजारी होती ..!

Kahi Kisi Roj Yu Bhi Hota,
Humari Haalat Tumhari Hoti
Jo Raat Humne Gujari Marke,
Wo Raa Tumne Gujari Hoti

तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं,
तो तुम शर्ते बदल देते हो..

Kaise karen ham khud ko ,
Tere pyaar ke kaabil,
Jab ham badalate hain,
Tto tum sharte badal dete ho..

तन्हाई की दीवारों पर
घुटन का पर्दा झूल रहा हैं,
बेबसी की छत के नीचे,
कोई किसी को भूल रहा हैं.!

Tanhai ki deevaron par ;
Ghutan ka parda jhool raha hain,
Bebasi ki chhat ke neeche,
Koi kisi ko bhool raha hain.

Bahut mushkil se karta hu
Teri yaadon ka karobar
Maana munafa kam hai
Par guzara ho jata hai

बहुत मुश्किल से करता हु
तेरी यादों का कारोबार
माना मुनाफा कम है
Bahut mushkil se karta hu
Teri yaadon ka karobar
Maana munafa kam hai
Par guzara ho jata hai

बहुत मुश्किल से करता हु
तेरी यादों का कारोबार
माना मुनाफा कम है
पर गुज़ारा हो जाता हैLog kehte hai ki
Khush raho
Magar mazaal hai
Ki rahne de

लोग कहते है की
खुश रहो
मगर मजाल है
की रहने दे

Gulzar Hindi Shayari

Milta to bahut kuch hai
Zindagi me
Bas hum ginti unhi ki
Karte hai jo hasil na ho ska

मिलता तो बहुत कुछ है
ज़िन्दगी में
बस हम गिनती उन्ही की
करते है जो हासिल न हो सका

Gulzar Quotes in Hindi

Din kuch ese guzarta hai koi
Jaise ehsan utarta hai koi

दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Saham si gayi hai
Khawaishe
Zarurato ne shayad un se
Unchi aawaz me baat ki hogi

सहम सी गयी है
ख्वाइशे
ज़रूरतों ने शायद उन से
ऊँची आवाज़ में बात की होगी

Best Shayari of Gulzar

Kaun kahta hai ki
Hum jhuth nahi bolte
Ek baar tum kheriyat
Puch kar to dekho

कौन कहता है की
हम झूठ नहीं बोलते
एक बार तुम खेरियत
पूछ कर तो देखो

Shayari of Gulzar in Hindi

Gulam the to
Hum sab Hindustani the
Aazadi ne humien
Hindu muslman bana diya

गुलाम थे तो
हम सब हिंदुस्तानी थे
आज़ादी ने हमें
हिन्दू मुसलमान बना दिया

Gulzar Shayari Quotes in Hindi

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi
Best Shayari of Gulzar, Shayari of Gulzar in Hindi

Gulzar Shayri in Hindi

Wo mohabbat bhi tumhari thi
Wo nafrat bhi tumhari thi
Hum apni wafa ka insaf kisse mangte
Wo shehar bhi tumhara tha
Wo adalat bhi tumhari thi

वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी
वो नफ़रत भी तुम्हारी थी
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे मांगते
वो शहर भी तुम्हारा था
वो अदालत भी तुम्हारी थी

Gulzar Hindi Shayari

Tere bina zindagi se koi
Shikwa to nahi
Tere bina par zindagi bhi lekin
Zindagi to nahi

तेरे बिना ज़िन्दगी से कोई
शिकवा तो नहीं
तेरे बिना पर ज़िन्दगी भी लेकिन
ज़िन्दगी तो नहीं

Gulzar Quotes in Hindi

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi
Best Shayari of Gulzar, Shayari of Gulzar in Hindi

Gulzar Shayari in Hindi

Gaye the sochkar ki baat
Bachpan ki hogi
Magar dost mujhe apni
Tarakki sunane lage

गए थे सोचकर की बात
बचपन की होगी
मगर दोस्त मुझे अपनी
तरक्की सुनाने लगे

Gulzar Ki Shayari

Yaad aayegi har roz magar
Tujhe aawaz na dunga
Likhunga tere hi liye har gazal
Magar tera naam na lunga

याद आएगी हर रोज़ मगर
तुझे आवाज़ ना दूँगा
लिखूँगा तेरे ही लिए हर ग़ज़ल
मगर तेरा नाम ना लूँगा

Best Shayari of Gulzar

 

gulzar shayari

gulzar shayari

 

 

 

 

Shayari of Gulzar in Hindi

Umar jaya kar di logo ne
Auron me nuks nikalte nikalte
Itna khud ko tarasha hota
To frishte ban jate

उम्र जाया कर दी लोगो ने
औरों में नुक्स निकालते निकालते
इतना खुद को तराशा होता
तो फरिश्ते बन जाते

Main har raat khawaisho ko
Khud se pehle sula deta hu
Hairat yah hai ki har subah
Ye mujhse pehle jag jati hai

मैं हर रात ख्वाईशो को
खुद से पहले सुला देता हु
हैरत यह है की हर सुबह
ये मुझसे पहले जग जाती है

तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे….


eree yaadon ke jo antim the,
dil tadapata raha, ham door rahe…
khat likhe the jo tumane kabhee pyaar mein,
usako padhate rahe aur jalaate rahe….

तेरे-करम-तो-हैं इतने कि याद हैं अब तक,
तेरे सितम हैं कुछ इतने कि हमको याद नहीं

tumhaara-karam-to-hain isalie ki ab tak yaad rahe hain,
tumhaara sitam kuchh aisa hai ki hamako yaad nahin hai

शायर बनना बहुत आसान हैं…!
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए…!!


shaayar banana bahut aasaan hain…!
bas ek adhooree mohabbat kee mukammal digree chaahie… !!

 

कोई पूछ रहा हे मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत…
मुझे याद आ रहा हैं तेरे हल्के से मुस्कुराना…
मेरे-तेरे इश्क़ की छाँव मे, जल-जलकर! काला ना पड़ जाऊ कहीं !
तू मुझे हुस्न की धुप का एक टुकड़ा दे…!
चाँद रातों के ख्वाब
उम्र भर की नींद मांगते हैं ॥
बहोत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायते जो बया नहीं होती

koee poochh raha he he mere jeevan kee keemat…
mujhe yaad aa rahe hain aap aur halke se muskaanuraana…
mere-tere ishq kee chhaanv me, jal-jalakar! kaala na pad jaoooo kaheen ka!
too mujhe husn kee dhup ka ek tukada de…!
chaand raaton ke khvaab
umr bhar kee neend maangate hain te
bahot andar tak jalata hai,
vo chunauteeyate jo baya nahin hotee

Also read ; best gulzar shayari

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *