0

Best Gulzar Shayari in hindi | gulzar shayari 2020

81 / 100

gulzar shayari in hindi ,gulzar shayari motivational , gulzar shayari for love ,gulzar shayari for zindagi , gulzar shayari life ,gulzar shayari for dosti

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi

कमाल के होते है वो जज़्बात
जो आंखें नम करके ……
हमसे हमारे ही सवालों के
जवाब पूछा करते है ॥
kamaal ke hote hai vo
jazbaat jo aankhen nam
karake …… hamase hamaare
hee savaalon ke javaab
poochha karate hai .

कभी चाँद की तरह टपकी कभी
राह में पड़ी पाई कभी छींक की
तरह खनकी कभी जेब से निकल
आई अठन्नी – सी ज़िन्दगी ये जिन्दगी !
kabhee chaand kee tarah
tapakee kabhee raah mein
padee paee kabhee chheenk
kee tarah khanakee kabhee
jeb se nikal aaee athannee – see
zindagee ye jindagee !

काश तुम भी हो जाओ तुम्हारी
यादों की तरह ना वक्त देखो ,
ना बहाना बस चले आओ .
kaash tum bhee ho jao
tumhaaree yaadon kee
tarah na vakt dekho ,
na bahaana bas chale aao .

बहुत मुश्किल से करता हूँ
तेरी यादों का कारोबार ,
मुनाफा कम है पर गुजारा हो जाता है !!
bahut mushkil se karata hoon
teree yaadon ka kaarobaar ,
munaapha kam hai par gujaara
ho jaata hai !!

लज़्ज़त इंतज़ार में और बढ़
जाए जो तू धीरे से छू के निकल जाए .
lazzat intazaar mein aur badh
jae jo too dheere se chhoo
ke nikal jae .

आँख के इक़ गावँ में रात को खवाब
आते थे छूनें से बहतें थे . बोले तो
कहते थे …… उडते ख्वाबों का
ऐतबार कहाँ … अब मुझें कोई
इंतजार कहाँ …. !
aankh ke iq gaavan mein
raat ko khavaab aate the
chhoonen se bahaten the .
bole to kahate the ……
udate khvaabon ka aitabaar
kahaan … ab mujhen koee
intajaar kahaan …. !

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar in hindi shayari

वक़्त की चाल का अंदाज़ा तो नहीं
मुझे मगर , वक्त के साथ टकराने की
कोशिश करूँगा मैं सदा ।
vaqt kee chaal ka andaaza
to nahin mujhe magar ,
vakt ke saath takaraane
kee koshish karoonga main sada .

कितना भी पकड़ लो ,
फिसलता जरूर है .. !
ये वक़्त हे साहब ,
बदलता जरूर है ….. !!
kitana bhee pakad lo ,
phisalata jaroor hai .. !
ye vaqt he saahab ,
badalata jaroor hai ….. !!

वक़्त की चाल का अंदाज़ा
तो नहीं मुझे मगर , वक्त के
साथ टकराने की कोशिश करूँगा मैं सदा ।
vaqt kee chaal ka andaaza
to nahin mujhe magar ,
vakt ke saath takaraane
kee koshish karoonga main sada .

दो जहां के बीच छोटा सा ही फर्क है ,
सांस चल रही है तो यहां और रुक गई तो वहां ।
do jahaan ke beech chhota sa
hee phark hai , saans chal
rahee hai to yahaan aur ruk
gaee to vahaan .

बेवजह है .तभी तो दोस्ती है .
वजह होती तो साज़िश होती .
bevajah hai .tabhee to dostee hai ..
vajah hotee to.saazish hotee .

मत करो इश्क साहब बहुत झमेले है ,
इश्क करने वाले हँसते सबके साथ है
और रोते अकेले है .
mat karo ishk saahab bahut
jhamele hai , ishk karane vaale
hansate sabake saath hai aur
rote akele hai .

gulzar shayari

gulzar shayari

in hindi gulzar shayari

ये शुक्र है कि मिरे पास तेरा ग़म
तो रहा वगर्ना ज़िंदगी ने तो रुला
दिया होता गुलज़ार
ye shukr hai ki mire paas tera
gam to raha vagarna zindagee
ne to rula diya hota gulazaar .

गुलाम थे तो हम सब हिन्दोस्तानी थे
आजादी ने हमे हिन्दू मुसलमान बना दिया ।
gulaam the to ham sab
hindostaanee the aajaadee
ne hame hindoo musalamaan
bana diya .

उम्र ज़ाया करदी लोगों ने औरों के
अजूद निकालते निकालते । इतना
खुद को तराशा होता तो फरिश्ते बन जाते ।
umr zaaya karadee logon ne
auron ke ajood nikaalate nikaalate .
itana khud ko taraasha hota to
pharishte ban hate .

बहुत मुश्किल से करता हूँ
तेरी यादों का कारोबार मुनाफा कम है
पर गुजारा हो ही जाता है
bahut mushkil se karata
hoon teree yaadon ka kaarobaar
munaapha kam hai par gujaara
ho hee jaata hai .

वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी वो
नफ़रत भी तुम्हरी थी हम अपनी
वफ़ा का इंसाफ किससे मांगते वो
शहर भी तुम्हारा था वो अदालत भी तुम्हारी थी |
vo mohabbat bhee tumhaaree
thee vo nafarat bhee tumharee
thee ham apanee vafa ka insaaph
kisase maangate vo shahar bhee
tumhaara tha vo adaalat bhee
tumhaaree thee .

ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की ….
और कहुना कि , कफ़न की ख्वाहिश में
मेरी लाश उनके आँचल का इंतज़ार करती है .
ai hava unako kar de khabar
meree maut kee …. aur kahuna ki ,
kafan kee khvaahish mein
meree laash unake aanchal
ka intazaar karatee hai .

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari in hindi for gulzar

मुस्कुराना , सहते जाना ,
चाहने की रस्मा है न लहू न
कोई आँसू इश्क़ ऐसा ज़ख़्म है
muskuraana , sahate jaana ,
chaahane kee rasma hai na
lahoo na koee aansoo ishq
aisa zakhm hai .

रात में जब भी मेरी आंख खुले
गोपीवाही निकल जाताही आसमानों
से गुज़र जाता .
raat mein jab bhee meree
aankh khule gopeevaahee
nikal jaataahee aasamaanon
se guzar jaata .

ठंडा चूल्हा देखकर रात गुज़ारी
उस मज़दूर ने .. कंबख़्त आग थी
जो रात भर जलती रही उसके पेट में ..
thanda choolha dekhakar
raat guzaaree us mazadoor ne ..
kambakht aag thee jo raat bhar
jalatee rahee usake pet mein ..

मेरे जेब में ज़रा सी छेद क्या हो गई
सिक्को से ज्यादा तो रिश्ते बिखर गए ।
mere jeb mein zara see chhed
kya ho gaee sikko se jyaada to
rishte bikhar gae .

दिन खाली – खाली बर्तन है ,
और रात है जैसे अँधा कुआं
इन सूनी अँधेरी आँखों में ,
आँसू की जगह आता हैं धुंआ
जीने की वजह तो कोई नहीं ,
मरने का बहाना ढूंढ़ता है .
din khaalee – khaalee bartan
hai , aur raat hai jaise andha
kuaan in soonee andheree
aankhon mein , aansoo kee
jagah aata hain dhuna jeene
kee vajah to koee nahin ,
marane ka bahaana
dhoondhata hai .

कैसे गुजर रही है सभी पूछते है ।
कैसे गुजरता हुँ कोई नहीं पूछता .
kaise gujar rahee hai sabhee
poochhate hai . kaise gujarata
hun koee nahin poochhata .

गालिब ‘ बुरा न मान जो वाइज
बुरा कहे ऐसा भी कोई है कि सब
अच्छा कहें जिसे .
gaalib bura na maan jo
vaij bura kahe aisa bhee
koee hai ki sab achchha
kahen jise .

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi 

एक सपने के टूटकर चकनाचूर
हो जाने के बाद दूसरा सपना
देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं
ek sapane ke tootakar
chakanaachoor ho jaane
ke baad doosara sapana
dekhane ke hausale ka
naam jindagee hain .

दिल अगर हैं तो दर्द भी होंगा ,
इसका शायद कोई हल नहीं हैं

dil agar hain to dard bhee honga ,
isaka shaayad koee hal nahin hain .

याददाश्त का कमजोर होना
कोई बुरी बात नहीं है जनाब ,
बहुत बैचेन रहते है वो लोग
जिन्हें हर बात याद रहती है …
yaadadaasht ka kamajor
hona koee buree baat nahin
hai janaab , bahut baichen
rahate hai vo log jinhen har
baat yaad rahatee hai …

बादलों से काट काट के ,
कागजों पे नाम जोड़ना ये
मुझे क्या हो गया ? डोरियों
से बाँध बाँध के , रातभर चाँद
तोड़ना ये मुझे क्या हो गया .
baadalon se kaat kaat ke ,
kaagajon pe naam jodana
ye mujhe kya ho gaya ?
doriyon se baandh baandh ke ,
raatabhar chaand todana ye
mujhe kya ho gaya .

बहुत मुश्किल से करता हूँ ,
तेरी यादों का कारोबार ,
मुनाफा कम है ,
पर गुज़ारा हो ही जाता है …
bahut mushkil se karata
hoon , teree yaadon ka
kaarobaar , munaapha
kam hai , par guzaara
ho hee jaata hai …

मौसम का , गुरुर तो देखो ;
तुमसे मिलकर , आया हो जैसे !
mausam ka , gurur to dekho ;
tumase milakar , aaya ho jaise !

ऐब ” भी बहुत हैं मुझमें ,
और ” खूबियां ” भी , ढूँढने
वाले तूं सोच , तुझे चाहिए
क्या मुझमें …
aib ” bhee bahut hain
mujhamen , aur ” khoobiyaan
bhee , dhoondhane vaale
toon soch , tujhe chaahie
kya mujhamen …

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari in hindi

मैं हर रात सारी ख्वाहिशो को
खुद से पहले सुला देता हूँ .
हैरत यह है की हर सुबह ये
मुझसे पहले जाग जाती है ।
main har raat saaree
khvaahisho ko khud se
pahale sula deta hoon .
hairat yah hai kee har
subah ye mujhase pahale
jaag jaatee hai .

एक ना एक दिन हासिल कर
ही लूंगा मंज़िल .. ठोकरें ज़हर
तो नहीं जो खाकर मर जाऊंगा !
ek na ek din haasil kar
hee loonga manzil ..
thokaren zahar to nahin
jo khaakar mar jaoonga !

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं
उस बेवफ़ा को , हमने भी कह
दिया बस उसे मोहब्बत हो
जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas
use mohabbat ho jae kisee
bevafa se ! . !

बदल जाओ वक़्त के साथ
या यकृत बदलना सीखो ,
मजबूरियों को मत कोसो ,
हर हाल में चलना सीखो !
badal jao vaqt ke saath
ya yakrt badalana seekho ,
majabooriyon ko mat koso ,
har haal mein chalana seekho !

बोली बता देती है , इंसान कैसा है !
बहस बता देती है , ज्ञान कैसा है !
घमण्ड बता देता है , कितना पैसा है ।
संस्कार बता देते है , परिवार कैसा है !!
bolee bata detee hai ,
insaan kaisa hai !
bahas bata detee hai ,
gyaan kaisa hai !
ghamand bata deta hai ,
kitana paisa hai .
sanskaar bata dete hai ,
parivaar kaisa hai !!

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुजारी है
aap ke baad har ghadee
ham ne aap ke saath hee
gujaaree hai .

तुझे पहचानुंगा कैसे ?
तुझे देखा ही नही ,
दुढ़ा करता हूँ तुम्हे ,
अपने चेहरे में कही .
tujhe pahachaanunga kaise ?
tujhe dekha hee nahee ,
dudha karata hoon tumhe ,
apane chehare mein kahee ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

hindi shayari for gulzar

यूतो ए ज़िन्दगी तेरेसफर से
शिकायते बहुत थी मगर दर्दजब
दर्ज कराने पहुंचे तो कतारे बहुत थी .
yooto e zindagee teresaphar
se shikaayate bahut thee
magar dardajab darj karaane
pahunche to kataare bahut thee

ख़ामोशी का हासिल भी इक
लम्बी सी ख़ामोशी थी उन की
बात सुनी भी हम ने अपनी बात
सुनाई भी .
khaamoshee ka haasil bhee
ik lambee see khaamoshee
thee un kee baat sunee bhee
ham ne apanee baat sunaee bhee .

इस दिल का कहा मनो एक काम
कर दो एक बे – नाम सी मोहब्बत
मेरे नाम करदो मेरी ज़ात पर फ़क़त
इतना अहसान कर दो किसी दिन
सुबह को मिलो , और शाम कर दो .. !!

is dil ka kaha mano ek kaam kar
do ek be – naam see mohabbat
mere naam karado meree
zaat par faqat itana ahasaan
kar do kisee din subah ko milo ,
aur shaam kar do .. !!


			

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *