0

Gulzar Shayari for Zindgi | zindagi & motivaional shayari 2020

83 / 100
gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari for zindagi ,gulzar shayari motivational , gulzar shayari for love ,gulzar shayari for dosti , gulzar shayari life ,gulzar shayari in hindi…..
gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari for zindagi

दिल तो था ही नहीं मेरे पास ये
जो टुटा वो भरोसा था मेरा .. !!
dil to tha hee nahin mere
paas ye jo tuta vo bharosa
tha mera .. !!

छत पर चाँद क्या उतरा हज़ारों
सूरजों को जलते देखा तेरी गली में !
chhat par chaand kya utara
hazaaron soorajon ko jalate
dekha teree galee mein !

मिलता तो बहुत कुछ है जिंदगी में
बस हम गिनती उसी की करते हैं
जो हासिल ना हो सका.
milata to bahut kuchh hai
jindagee mein bas ham ginatee
usee kee karate hain jo haasil
na ho saka.

याददाश्त का कमजोर होना कोई बुरी
बात नहीं है जनाब , बहुत बैचेन रहते है
वो लोग जिन्हें हर बात याद रहती है …
yaadadaasht ka kamajor hona
koee buree baat nahin hai janaab ,
bahut baichen rahate hai vo log
jinhen har baat yaad rahatee hai ..

अगर आपके दिल में देश प्रेम सच्चा है
तो आज घर पर ही रहो देश के लिए अच्छा है.
agar aapake dil mein desh prem
sachcha hai to aaj ghar par hee
raho desh ke lie achchha hai.

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar zindagi  shayari 

suna tha mohabbat milatee hain
mohabbat ke badale ,
magar hamaaree baaree aaee
to rivaaj hee badal gaya ! . !

मौसम का , गुरुर तो देखो ; तुमसे मिलकर ,
आया हो जैसे !
mausam ka , gurur to dekho ;
tumase milakar , aaya ho jaise !

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं उस बेवफ़ा को ,
हमने भी कह दिया बस उसे मोहब्बत
हो जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas use
mohabbat ho jae kisee bevafa se ! . !

हालात सीखा देती है बातें सुनना
और सहना वरना हर शख्स अपने
आप में बादशाह होता है
haalaat seekha detee hai
baaten sunana aur sahana
varana har shakhs apane
aap mein baadashaah hota hai.

नादान है वो उसे समझाए कोई बात ना
करने से मोहब्बत कम नहीं होती.
naadaan hai vo use samajhae
koee baat na karane se mohabbat
kam nahin hotee.

बहुत कुछ बदला है मैंने अपने आप में लेकिन ,
तुम्हे वो टूट के चाहने की आदत अब
तक नहीं बदली ! . !
bahut kuchh badala hai mainne
apane aap mein lekin , tumhe vo
toot ke chaahane kee aadat ab
tak nahin badalee ! . !

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari zindagi & motivational 

डर ये है कि कहीं उसे खो ना दूं सच ये है
कि कभी उसे पाया ही नहीं .
dar ye hai ki kaheen use kho na
doon sach ye hai ki kabhee use
paaya hee nahin.

बदले है उनके मिज़ाज कुछ दिनों से ,
वो बात तो करते हैं मगर बातें नहीं करते.
badale hai unake mizaaj kuchh
dinon se , vo baat to karate
hain magar baaten nahin karate.

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं
उस बेवफ़ा को , हमने भी
कह दिया बस उसे मोहब्बत हो
जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki
kya saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya
bas use mohabbat ho
jae kisee bevafa se ! . !

फ़र्क था हम दोनों कि मोहब्बत में मुझे
उससे ही थी उसे मुझसे भी थी.

fark tha ham donon ki
mohabbat mein mujhe
usase hee thee use mujhase
bhee thee.

तुम हैरान कर दो हाल पूछ कर
मेरा सब अच्छा है कहकर मैं
भी कमाल कर दूं .
tum hairaan kar do haal
poochh kar mera sab
achchha hai kahakar main
bhee kamaal kar doon .

gulzar shayari

gulzar shayari

zindagi gulzar shayari 

पिता से मिलने जाती हैं पति से पूछकर ,
बेटियाँ पराई क्या हुई हकदार बदल गये .
pita se milane jaatee hain
pati se poochhakar , betiyaan
paraee kya huee hakadaar
badal gaye .

सारी शिकायतों का हिसाब जोड़कर
रखा था मैंने उसने गले लगाकर सारा
हिसाब ही बिगाड़ दिया.
saaree shikaayaton ka hisaab
jodakar rakha tha mainne
usane gale lagaakar saara
hisaab hee bigaad diya

मोहब्बत और इज्जत इतनी मत देना
कि वो आपकी कदर ही भुल जाए ..
mohabbat aur ijjat itanee
mat dena ki vo aapakee
kadar hee bhul jae ..

मिलने जो पहुँचा दुश्मनों के घर ,
अपने ही दोस्तों से मुलाकात हो गयी .
milane jo pahuncha dushmanon
ke ghar , apane hee doston se
mulaakaat ho gayee .

सुकून ऐ दिल के लिए कभी हाल
तो पूँछ ही लिया करो , मालूम तो हमें
भी है कि हम आपके कुछ नहीं लगते ….
sukoon ai dil ke lie kabhee
haal to poonchh hee liya karo ,
maaloom to hamen bhee hai ki
ham aapake kuchh nahin lagate ….

gulzar shayari

gulzar shayari

zindagi gulzar shayari in hindi 

कोई पुछ रहा हे मुझसे मेरी जिन्दगी
की कीमंत …. मुझे याद आ रहा है
तेरा हल्के से मुस्कुराना …..
koee puchh raha he mujhase
meree jindagee kee keemant ….
mujhe yaad aa raha hai tera
halke se muskuraana …..

हैमें न मोहब्बत मिली प्यार ।
मेला ; हम को जो भी मिला
बेवफा यार मिला ! अपनी तो बन
गई तमाशा ज़िन्दगी ; हर कोई अपने
मकसद का तलबगार मिला !
haimen na mohabbat milee
pyaar . mela ; ham ko jo bhee
mila bevapha yaar mila !
apanee to ban gaee tamaasha
zindagee ; har koee apane
makasad ka talabagaar mila !

हैरान हूं मैं दिल अब पहले सा मासूम
नहीं रहा पत्थर तो नहीं बना मगर अब
मोम भी नहीं रहा.
hairaan hoon main dil ab pahale
sa maasoom nahin raha patthar
to nahin bana magar ab mom
bhee nahin raha.

ज़िन्दगी में प्यार का पौधा लगाने से
पहले ज़मीन परख लेना … हर मिट्टी
की फितरत में वफ़ा नहीं होती.
zindagee mein pyaar ka paudha
lagaane se pahale zameen
parakh lena … har mittee kee
phitarat mein vafa nahin hotee.

कुछ अलग करना हो
तो भीड़ से हट के चलिए ,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
kuchh alag karana ho
to bheed se hat ke chalie ,
bheed saahas to detee hain
magar pahachaan chhin
letee hain.

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi 

अजीब सी बस्ती में , ठिकाना है हमारा …
जहां लोग मिलते कम और झांकते ज्यादा है
ajeeb see bastee mein ,
thikaana hai hamaara …
jahaan log milate kam aur
jhaankate jyaada hai.

जरूम खरीद लाया हूं बाज़ार – ए – इश्क से ,
दिल ज़िद कर रहा था मुझे इश्क चाहएि ।
jaroom khareed laaya hoon
baazaar – e – ishk se , dil zid
kar raha tha mujhe ishk chaahaei .

बहुत मुश्किल से करता हूँ ,
तेरी यादों का कारोबार ,
मुनाफा कम है ,
पर गुज़ारा हो ही जाता है …
bahut mushkil se karata hoon ,
teree yaadon ka kaarobaar ,
munaapha kam hai ,
par guzaara ho hee jaata hai …

अगर आपके दिल में देश प्रेम सच्चा है
तो आज घर पर ही रहो देश के लिए अच्छा है.
agar aapake dil mein desh
prem sachcha hai to aaj
ghar par hee raho desh ke
lie achchha hai

छोड़ दिया तूने मुझे भी औरों की तरह
अरे एक बार तो जान लेती ,
मैं चाहता ही क्या था तुमसे तुम्हारे सिवा.
chhod diya toone mujhe bhee
auron kee tarah are ek baar to
jaan letee , main chaahata Hee
kya tha tumase tumhaare siva.

aib ” bhee bahut hain mujhamen ,
aur ” khoobiyaan ” bhee ,
dhoondhane vaale toon soch ,
tujhe chaahie kya mujhamen …

कौन कहता है कि हम झूठ नहीं
बोलते तुम एक बार खैरियत पूछ
कर तो देखो .
kaun kahata hai ki ham
jhooth nahin bolate tum
ek baar khairiyat poochh
kar to dekho .

gulzar shayari

gulzar shayari

zindagi shayrai gulzar

ये इश्क़ मोहब्बत की ,
रिवायत भी अजीब है ।
पाया नहीं है जिसको ,
उसे खोना भी नहीं चाहते ।
ye ishq mohabbat kee ,
rivaayat bhee ajeeb hai .
paaya nahin hai jisako ,
use khona bhee nahin chaahate .

सब कुछ मिल जाये ज़िन्दगी में तो
तमन्ना किसकी करोगे , अधूरी
ख्वाहिशें ही तो जीने का मज़ा देती हैं ।।
sab kuchh mil jaaye zindagee
mein to tamanna kisakee karoge ,
adhooree khvaahishen hee to
jeene ka maza detee hain ..

जरा सा भी नही पिघलता दिल तुम्हारा ,
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा .. ?
jara sa bhee nahee pighalata
dil tumhaara , itana qeematee
patthar kahaan se khareeda .. ?

आपको देखकर हम खुशी से ऐसे
खिल जाते हैं । जैसे भवरें फूलों से
मिल जाते हैं । मैं ।
aapako dekhakar ham khushee
se aise khil jaate hain .
jaise bhavaren phoolon
se mil jaate hain . main .

गुलज़ार भरा है गुलों के रंग से , ….
इश्क़ डरा है बेवफा के संग से ।।
gulazaar bhara hai gulon ke rang se , ….
ishq dara hai bevapha ke sang se ..

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari gulzar in hindi

अकेले आये थे और अकेले ही चले जाएंगे ,
हाँ कुछ झूठे लोग मिले थे दुनिया में ,
जो कहते थे – मरते दम तक तुम्हारा
साथ निभाएंगे .. !!

akele aaye the aur akele hee
chale jaenge , haan kuchh
jhoothe log mile the duniya
mein , jo kahate the – marate
dam tak tumhaara saath
nibhaenge .. !!

तेरे बाद किस से रखू प्यार की उम्मीद में .. !!
जब इतना नजदीकी इंसान साथ
छोड़ सकता है . तो गैरों का भरोसा करु .. !!
tere baad kis se rakhoo pyaar
kee ummeed mein .. !!
jab itana najadeekee insaan
saath chhod sakata hai .
to gairon ka bharosa karu .. !!

कुछ ऐसे किस्मत वाले हैं
कि जिनकी किस्मत होती नहीं
हंसना भी मना होता है
उन्हें रोने की इजाज़त होती नहीं …
बेनाम सा मौसम जीते हैं ,
बेरंग फ़ज़ा मिल जाती है
मरने की घड़ी मिलती है
अगर जीने की सज़ा मिल जाती है … !
kuchh aise kiramat vaale hain
ki jinakee kismat hotee nahin
hansana bhee mana hota hai
unhen rone kee ijaazat hotee nahin …
benaam sa mausam jeete hain ,
berang faza mil jaatee hai
marane kee ghadee milatee
hai agar jeene kee saza mil
jaatee hai .

यह चाहत आती नहीं रासहर किसी
दीवाने को किसी की छीन के खुशियाँ ,
क्या मिलता है इस कमबख्त जमाने को ।
yah chaahat aatee nahin
raasahar kisee deevaane ko
kisee kee chheen ke khushiyaan ,
kya milata hai is kamabakht
jamaane ko .
जो प्यार हकीकत मे होता है ,
वो प्यार जिंदगी मे बस एक बार होता .
jo pyaar hakeekat me hota hai ,
vo pyaar jindagee me bas ek
baar hota

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *