0

Gulzar Shayari For Romantic | Gulzar Shayari in hindi | shayari of Gulzar 2020

81 / 100

Read here best Romantic gulzar Shayari in hindi expressing love sentiments of a lover’s heart. Share these Romantic gulzar Shayari your lover, girlfriend, boyfriend, husband, wife, him, her.

Gulzar shayari for romantic

gulzar shayari

gulzar shayari

 

काश ऐसा हो ,
तेरे कदमों से ,
चुन के मंजिल ले ,
और कही , दूर कही ..
तुम गर साथ हो
kaash aisa ho ,
tere kadamon se ,
chun ke manjil le ,
aur kahee , door kahee ..
tum gar saath ho…..Gulzar shayari

हर वक्त तेरी जरुरत एक सी नहीं होती ।
कभी तुझे सीने से लगाने को जी चाहता है ,
और कभी सीने से लग जाने को .. !
har vakt teree jarurat ek see
nahin hotee .
kabhee tujhe seene se lagaane
ko jee chaahata hai ,
aur kabhee seene se lag jaane ko..

रातों से मुझे इश्क़ है ,
पर वे मुझसे दूर – दूर चली गई है
मैंने कुछ रातों को नज़्मों से बांध दिया है.
raaton se mujhe ishq hai ,
par ve mujhase door – door
chalee gaee hai mainne
kuchh raaton ko nazmon se
baandh diya hai… Gulzar shayari

तुमने मुझमें कमियां तलाश की … !
ये तुम्हारी एक आदत थी …
मैंने तुम में खूबियां देखी थी … !
ये मेरी एक आदत है …
tumane mujhamen kamiyaan
talaash kee … ! ye tumhaaree
ek aadat thee … mainne
tum mein khoobiyaan
dekhee thee … ! ye meree
ek aadat hai …

Romantic shayari in gulzar

gulzar shayari

gulzar shayari

फ़र्क था हम दोनों कि मोहब्बत में
मुझे उससे ही थी उसे मुझसे भी थी
fark tha ham donon ki mohabbat
mein mujhe usase hee
thee use mujhase bhee thee

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं
उस बेवफ़ा को , हमने भी कह दिया
बस उसे मोहब्बत हो जाए किसी बेवफ़ा से !
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya
bas use mohabbat ho
jae kisee bevafa se ! . !

एक खामोशी पसरी है दरम्यां ..
कुछ कहना उसे भी है …
कुछ बताना मुझे भी है ..
मगर क्या करे .. चुप रहना मजबूरी भी है ..
चुप रहना जरूरी भी है …
ek khaamoshee pasaree hai
daramyaan .. kuchh kahana
use bhee hai … kuchh bataana
mujhe bhee hai ..
magar kya kare ..
chup rahana majabooree
bhee hai .. chup rahana
jarooree bhee hai

किसी ने हमसे कहा क्या खूब
लिखते हो आप जनाब ,
हमने भी कह दिया मेरी
कलम थी ही इतनी खूबसूरत .. !!
kisee ne hamase kaha
kya khoob likhate ho aap
janaab , hamane bhee kah
diya meree kalam thee
hee itanee khoobasoorat .. !!

Romanti shayari in hindi 

gulzar shayari

gulzar shayari

जाने कैसे बीतेगी ये बरसातें माँगे हुए दिन हैं ,
माँगी हुई रातें धुआँ धुआँ सा रहता हैं ,
बुझी बुझी सी आँखों में सुलग रहे हैं
गीले आँसू , आग लगाती हैं बरसातें …
भरा हुआ था दिल शायद , छलक गया हैं
सीने में बहने लगे हैं , सारे शिकवे ,
बड़ी ग़मगीन हैं दिल की बातें …
jaane kaise beetegee ye
barasaaten maange hue
din hain , maangee huee
raaten dhuaan dhuaan sa
rahata hain , bujhee bujhee
see aankhon mein sulag rahe
hain geele aansoo , aag
lagaatee hain barasaaten …
bhara hua tha dil shaayad ,
chhalak gaya hain seene
mein bahane lage hain ,
saare shikave , badee
gamageen hain dil kee baaten.

तसल्ली से पढ़ा होता तो समझ में
आ जाते हम कुछ पन्ने बिन पढ़े
ही पलट दिए होंगे तुमने
tasallee se padha hota
to samajh mein aa jaate ham
kuchh panne bin padhe hee
palat die honge tumane

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं उस
बेवफ़ा को , हमने भी कह दिया बस
उसे मोहब्बत हो जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas
use mohabbat ho jae kisee
bevafa se ! . !

Shayari of romantic love

gulzar shayari

gulzar shayari

कुछ लोगो को कितना भी अपने
बनाने की कोशिश कर लो ,
वो साबित कर देते है कि वो गैर ही है ।
kuchh logo ko kitana bhee
apane banaane kee koshish
kar lo , vo saabit kar dete hai
ki vo gair hee hai .

मोह खत्म होते ही , खोने का डर
भी निकल जाता है चाहे दौलत हो ,
वस्तु हो , रिश्ता हो , या जिंदगी .. !!!
moh khatm hote hee ,
khone ka dar bhee nikal
jaata hai chaahe daulat ho ,
vastu ho , rishta ho , ya jindagee .. !!!

कितना कुछ जानता होगा वो
शख्स मेरे बारे में मेरे मुस्कुराने
पर भी जिसने पूछ लिया की
तुम उदास क्यों हो .
kitana kuchh jaanata hoga
vo shakhs mere baare mein
mere muskuraane par bhee
jisane poochh liya kee tum
udaas kyon ho .

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं
उस बेवफ़ा को , हमने भी कह दिया बस
उसे मोहब्बत हो जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas
use mohabbat ho jae
kisee bevafa se ! . !

Gulzar shayari in hindi

gulzar shayari

gulzar shayari

इतना क्या सिखाय जा रही है
ज़िन्दगी हमें कौन सी सदियाँ
गुज़ारनी है यहाँ
itana kya sikhaay ja
rahee hai zindagee hamen
kaun see sadiyaan
guzaaranee hai yahaan

सबसे अनजान बने बैठे हैं क्योकि
बस तुझे जानने की चाह है
sabase anajaan bane
baithe hain kyoki bas
tujhe jaanane kee chaah hai

भूल गये हैं चाहने .. या फिर ..
यादें मंहगी सरकार ने ..
bhool gaye hain chaahane ..
ya phir .. yaaden manhagee
sarakaar ne ..

इश्क वो नहीं जो तुझे मेरा करदे ,
इश्क़ तो वो है जो तुझको किसी
और का होने न दे ।
ishk vo nahin jo tujhe mera
karade , ishq to vo hai jo
tujhako kisee aur ka hone na de .

Shayari love and romantic

gulzar shayari

gulzar shayari

सबसे अनजान बने बैठे हैं
क्योकि बस तुझे जानने की चाह है
sabase anajaan bane baithe
hain kyoki bas tujhe jaanane
kee chaah hai

वह लोग बहुत खुशकिस्मत थे जो इश्क़
को काम समझते थे या काम से आशिकी
करते थे हम जीते जी मसरूफ रहे कुछ
इश्क़ किया कुछ काम किया काम इश्क़
के आड़े आता रहा और इश्क़ से काम
उलझता रहा फिर आखिर तंग आकर
हमने दोनों को अधूरा छोड़ दिया
vah log bahut khushakismat
the jo ishq ko kaam samajhate
the ya kaam se aashikee karate
the ham jeete jee masarooph
rahe kuchh ishq kiya kuchh kaam
kiya kaam ishq ke aade aata raha
aur ishq se kaam ulajhata raha phir
aakhir tang aakar hamane donon ko
adhoora chhod diya

इक गुमनाम रात लिलूँगा तुम्हें
चमकता चाँद लिखुंगा शिकवे
सारे तारे बनेंगे करवटों को दाग़
लिलूँगा सारे सवाल जुगनू बनेंगे
रतजगों को बरगद लिलूँगा
ik gumanaam raat liloonga
tumhen chamakata chaand
likhunga shikave saare taare
banenge karavaton ko daag
liloonga saare savaal juganoo
banenge ratajagon ko
baragad liloonga.

कुछ सोचूं तो तेरा ख्याल आ जाता है ;
कुछ बोलू तो तेरा नाम आ जाता है ;
कब तलक बयाँ करूँ दिल की बात ;
हर सांस में अब तेरा एहसास आ जाता है ।
kuchh sochoon to tera khyaal
aa jaata hai ; kuchh boloo to
tera naam aa jaata hai ;
kab talak bayaan karoon dil
kee baat ; har saans mein ab
tera ehasaas aa jaata hai .

Romantic shayari in love

gulzar shayari

gulzar shayari

मत करो इश्क साहब बहुत झमेले है ,
इश्क करने वाले हँसते सबके साथ है
और रोते अकेले है .
mat karo ishk saahab
bahut jhamele hai , ishk
karane vaale hansate sabake
saath hai aur rote akele hai .

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए ,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
kuchh alag karana ho to
bheed se hat ke chalie ,
bheed saahas to detee
hain magar pahachaan
chhin letee hain

मुझे चाहिए कोई बिल्कुल मेरे ही
जैसा किसी बेहतर से मेरी बनती ही नहीं है
mujhe chaahie koee bilkul
mere hee jaisa kisee behatar
se meree banatee hee nahin hai

जुल्फें बांधा मत करो तुम ,
हवायें नाराज़ रहती है ….
julphen baandha mat karo tum ,
havaayen naaraaz rahatee hai ….

Gulzar shayari for love

gulzar shayari

gulzar shayari

इश्क़ में गैरत – ऐ – जज़्बात ने रोने न दिया ,
वरना क्या बात थी किस बात ने रोने न दिया ..
ishq mein gairat – ai – jazbaat
ne rone na diya , varana kya baat
thee kis baat ne rone na diya ..

सुना था मोहब्बत मिलती हैं मोहब्बत के बदले ,
मगर हमारी बारी आई तो रिवाज ही बदल गया ! . !
suna tha mohabbat milatee hain
mohabbat ke badale ,
magar hamaaree baaree
aaee to rivaaj hee badal gaya ! . !

बैठे चाय की प्याली लेकर पुराने
किस्से गरम करने चाय ठंडी होती
गई और आँखें नम
baithe chaay kee pyaalee
lekar puraane kisse garam
karane chaay thandee hotee
gaee aur aankhen nam

मौसम का , गुरुर तो देखो ;
तुमसे मिलकर , आया हो जैसे !
mausam ka , gurur to dekho ;
tumase milakar , aaya ho jaise !

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं उस बेवफ़ा को ,
हमने भी कह दिया बस उसे मोहब्बत
हो जाए किसी बेवफ़ा से ! . !
khuda ne poochha ki kya saja
doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas use
mohabbat ho jae kisee bevafa se ! . !

shayari in love for romantic

gulzar shayari

gulzar shayari

एक खामोशी पसरी है दरम्यां ..
कुछ कहना उसे भी है …
कुछ बताना मुझे भी है ..
मगर क्या करे .. चुप रहना मजबूरी भी है ..
चुप रहना जरूरी भी है …
khuda ne poochha ki kya
saja doon us bevafa ko ,
hamane bhee kah diya bas
use mohabbat ho jae
kisee bevafa se ! . !

हालात सीखा देती है बातें सुनना
और सहना वरना हर शख़्स अपने
आप में बादशाह होता है..
haalaat seekha detee hai
baaten sunana aur sahana
varana har shakhs apane aap
mein baadashaah hota hai..

फ़र्क था हम दोनों कि मोहब्बत में
मुझे उससे ही थी उसे मुझसे भी थी
fark tha ham donon ki
mohabbat mein mujhe usase
hee thee use mujhase bhee thee

magar hamaaree baaree
aaee to rivaaj hee badal gaya ! . !

gulzar shayari Romentic in hindi

gulzar shayari

gulzar shayari

इंसान ज़िन्दगी में सिर्फ़ एक बार
ही मोहब्बत करता है बाकी की
मोहब्बत वो पहली मोहब्बत को
भुलाने के लिए करता है..
insaan zindagee mein
sirf ek baar hee mohabbat
karata hai baakee kee
mohabbat vo pahalee
mohabbat ko bhulaane ke
lie karata hai….Gulzar shayari

लोग दीवाने है बनावट के ,
हम कहा जाएँ सादगी लेकर ..
log deevaane hai banaavat ke ,
ham kaha jaen saadagee lekar ..

अच्छा लगता है तुम्हारे लफ़्ज़ों मैं
खुदको ढूंढना इतराती हूँ ,
मुस्कुराती हूँ और तुम मैं ढल सी जाती हूँ..
achchha lagata hai tumhaare
lafzon main khudako dhoondhana
itaraatee hoon , muskuraatee
hoon aur tum main dhal see
jaatee hoon…

न चाहत के अंदाज अलग ,
न दिल के , जजबात अलग ,
थी सारी बात लकीरों की ,
तेरे हाथ अलग , मेरे हाथ अलग ।
na chaahat ke andaaj alag ,
na dil ke jajabaat alag thee ,
saaree baat lakeeron kee ,
tere haath alag ,
mere haath alag .

तेरे जाने से कुछ तो बदला नही रात भी
आई थी और चाँद भी था .
सांस भी वैसे ही चलती है हमेशा
की तरह आँख वैसे ही झपकती है
हमेशा की तरह थोड़ी सी भीगी हुई
रहती है और कुछ भी नही ….

tere jaane se kuchh to badala
nahee raat bhee aaee thee
aur chaand bhee tha .
saans bhee vaise hee
chalatee hai hamesha kee
tarah aankh vaise hee
jhapakatee hai hamesha
kee tarah thodee see bheegee
huee rahatee hai aur kuchh
bhee nahee …. Gulzar shayari

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *