0

Gulzar Shayari

12 / 100

जरा सा भी नही पिघलता दिल तुम्हारा ,
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा .. ?
jara sa bhee nahee pighalata
dil tumhaara , itana qeematee
patthar kahaan se khareeda .. ?

बहुत अजीब से हो गए हैं ये रिश्ते आजकल ,
सब फुरसत में हैं पर वक़्त किसी के पास नहीं ।
bahut ajeeb se ho gae hain ye
rishte aajakal , sab phurasat
mein hain par vaqt kisee ke
paas nahin ।

कुछ तो सोचा होगा कायनात ने तेरे – मेरे
रिश्ते पर , वरना इतनी बड़ी दुनिया में
तुमसे ही बात क्यों होती .
kuchh to socha hoga kaayanaat
ne tere – mere rishte par , varana
itanee badee duniya mein
tumase hee baat kyon hotee .

सोचा ना था जिंदगी ऐसे फिर से मिलेगी
जीने के लिये , आँखों को प्यास लगेगी .
अपने ही आँसू पीने का लिये .
socha na tha jindagee aise phir
se milegee jeene ke liye , aankhon
ko pyaas lagegee . apane hee
aansoo peene ka liye .

मेहनत लगती है सपनो को सच बनाने में
हौसला लगता है बुलन्दियों को पाने में
बरसो लगते है जिन्दगी बनाने में और
जिन्दगी फिर भी कम पडती है रिश्ते
निभाने में .
mehanat lagatee hai sapano ko
sach banaane mein hausala
lagata hai bulandiyon ko paane
mein baraso lagate hai jindagee
banaane mein aur jindagee phir
bhee kam padatee hai rishte
nibhaane mein .

बहुत कुछ सोचना पड़ता है
मुँह खोलने से पहले क्योंकि
दुनिया अब दिल से नही
दिमाग से रिश्ते निभाती है .
bahut kuchh sochana padata
hai munh kholane se pahale
kyonki duniya ab dil se nahee
dimaag se rishte nibhaatee hai .

एक आंसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है
तुम ने देखा नहीं आंखों का समुंदर होना .
ek aansoo bhee hukoomat ke lie
khatara hai tum ne dekha nahin
aankhon ka samundar hona .

बदल जाओ वक्त के साथ या फिर
वक्त बदलना सीखो मजबूरियों को
मत कोसो हर हाल में चलना सीखो .
badal jao vakt ke saath ya
phir vakt badalana seekho
majabooriyon ko mat koso
har haal mein chalana seekho .

तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो ,
दिल मेरा था और धड़क रहा था वो ।
प्यार का ताल्लुक भी अजीब होता है ,
आंसू मेरे थे और सिसक रहा था वो ।
talaash meree thee aur bhatak
raha tha vo , dil mera tha aur
dhadak raha tha vo . pyaar ka
taalluk bhee ajeeb hota hai ,
aansoo mere the aur sisak
raha tha vo .

कितना सताती है किसी की बेबस यादें ऐरात
अब तो गुज़र जा के अब रहा नहीं जाता .
kitana sataatee hai kisee kee
bebas yaaden airaat ab to guzar
ja ke ab raha nahin jaata .

तन्हाई का एक ऐसा भी आलम है
जो कुछ भी करने को मजबूर कर
देता है ऊपर वाला भी ना जाने क्या
चाहता है क्यों प्यार करने वालो को
दूर कर देता है .
tanhaee ka ek aisa bhee aalam
hai jo kuchh bhee karane ko
majaboor kar deta hai oopar
vaala bhee na jaane kya chaahata
hai kyon pyaar karane vaalo ko
door kar deta hai .

मैं किसी काम का नहीं रहा अब उनके लिए ,
वरना तो ज़रूर आता मिलने मुझसे वो
शख्स मतलबी ।
main kisee kaam ka nahin raha
ab unake lie , varana to zaroor
aata milane mujhase vo shakhs
matalabee .

क्यों डरें की ज़िन्दगी में क्या होगा ,
हर वक्त क्यों सोचें कि बस बुरा होगा ,
बढ़ते रहें बस अपनी मंजिलों की ओर ,
कुछ न भी मिला तो क्या तजुर्बा तो होगा ।
kyon daren kee zindagee mein
kya hoga , har vakt kyon sochen
ki bas bura hoga , badhate rahen
bas apanee manjilon kee or ,
kuchh na bhee mila to kya
tajurba to hoga .

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते …
haath chhooten bhee to rishte
nahin chhoda karate …

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीजें जो तुम को रुलाएँ , भेजी .
tumhaaree khushk see aankhen
bhalee nahin lagateen vo saaree
cheejen jo tum ko rulaen , bhejee .

वो जो मेरे अपने होने का दावा करते है
मुझे पता है कि वो दिखावा करते है
पीठ पीछे तो मेरी करते है बुराई और
मुंह के आगे मेरी वाह वाह करते है .
vo jo mere apane hone ka
daava karate hai mujhe pata
hai ki vo dikhaava karate hai
peeth peechhe to meree karate
hai buraee aur munh ke aage
meree vaah vaah karate hai ka .

थम के रह जाती है जिंदगी ,
जब जम के बरसती हैं पुरानी यादें …
tham ke rah jaatee hai jindagee ,
jab jam ke barasatee hain
puraanee yaaden …

डॉरम खरीद लाया हूं बाज़ार – ए – इश्क से ,
दिल ज़िद कर रहा था मुझे इश्क चाहएि ।
doram khareed laaya hoon
baazaar – e – ishk se, dil zid kar
raha tha mujhe ishk chaahaei .

बादलों से काट काट के , कागजों पे
नाम जोड़ना ये मुझे क्या हो गया ?
डोरियों से बाँध बाँध के , रातभर
चाँद तोड़ना ये मुझे क्या हो गया ?
baadalon se kaat kaat ke ,
kaagajon pe naam jodana
ye mujhe kya ho gaya ?
doriyon se baandh baandh ke ,
raatabhar chaand todana ye
mujhe kya ho gaya ?

बहुत मुश्किल से करता हूँ
तेरी यादों का कारोबार ,
मुनाफा कम है पर गुजारा
हो जाता है !!
bahut mushkil se karata
hoon teree yaadon ka kaarobaar ,
munaapha kam hai par
gujaara ho jaata hai !!

इतना क्यों सिखाए जा रही हो ज़िन्दगी ,
हमें कौन सी सदियाँ गुजारनी है यहाँ ।
itana kyon sikhae ja rahee ho
zindagee , hamen kaun see
sadiyaan gujaaranee hai yahaan .

रिश्ते काँच सरीखे हैं टूट कर बिखर ही
जाते हैं समेटने की ज़हमत कौन करे
लोग काँच ही नया ले आते हैं .
rishte kaanch sareekhe hain
toot kar bikhar hee jaate hain
sametane kee zahamat kaun
kare log kaanch hee naya le
aate hain .

दिन गया जैसे रूठा- रूठा शाम है
अंजानी , पुराने पल जी रहा है …
आँखें पानी- पानी ॥
din gaya jaise rootha- rootha
shaam hai anjaanee , puraane
pal jee raha hai … aankhen
paanee- paanee .

न चाहत के अंदाज अलग ,
न दिल के , जजबात अलग ,
थी , सारी बात लकीरों की ,
तेरे हाथ अलग , मेरे हाथ अलग ।
na chaahat ke andaaj alag ,
na dil ke , jajabaat alag , thee ,
saaree baat lakeeron kee ,
tere haath alag , mere haath alag .

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक्त की शाख से लम्हें नहीं तोड़ा करते .
haath chhoote bhee to rishte
nahin chhoda karate vakt kee
shaakh se lamhen nahin toda karate .

हम तेरी मजबूरी समझते समझते ,
तेरी असलियत समझ गए !
ham teree majabooree samajhate samajhate , teree asaliyat samajh gae !

किसी ने मुझसे पूछा वह याद नहीं
करते तुम्हें फिर तुम क्यों याद करते
हो हमने मुस्कुरा कर कहा रिश्ते
निभाने वाले मुकाबला नहीं किया करते .
kisee ne mujhase poochha vah
yaad nahin karate tumhen phir
tum kyon yaad karate ho hamane
muskura kar kaha rishte nibhaane
vaale mukaabala nahin kiya karate .

बस इतने करीब रहो बात ना
भी हो तो दूरी ना लगे ..
bas itane kareeb raho baat
na bhee ho to dooree na lage ..

खुदा ने पूछा कि क्या सजा दूं उस
बेवफ़ा को , हमने भी कह दिया बस
उसे मोहब्बत हो जाए किसी बेवफ़ा से !
khuda ne poochha ki kya saja
doon us bevafa ko,hamane bhee
kah diya bas use mohabbat ho
jae kisee bevafa se !

मै झुकता हूँ हमेशा आँसमा बन के जानता
हूँ कि ज़मीन को उठने की आदत नही …
mai jhukata hoon hamesha
aansama ban ke .. jaanata
hoon ki zameen ko uthane
kee aadat nahee .

रिश्ते काँच सरीके होते हैं ,
टूट कर बिखर ही जाते हैं ..
समेटने की जहमत कौन करे ,
अब लोग नया काँच ही ले आते हैं .
rishte kaanch sareeke hote hain ,
toot kar bikhar hee jaate hain ..
sametane kee jahamat kaun kare ,
ab log naya kaanch hee le aate hain .

अगर नए रिश्ते न बनें तो मलाल मत करना
पुराने टूट ना जायें बस इतना ख्याल रखना
agar nae rishte na banen to
malaal mat karana puraane
toot na jaayen bas itana
khyaal rakhana .

सुना था मोहब्बत मिलती हैं
मोहब्बत के बदले , मगर हमारी
बारी आई तो रिवाज ही बदल गया ! . !
suna tha mohabbat milatee
hain mohabbat ke badale ,
magar hamaaree baaree
aaee to rivaaj hee badal gaya !

चाहो तो तुम भी हाल पूछ सकते हो हमारा …
कुछ हक़ … दिए नहीं जाते …. लिए जाते हैं .
chaaho to tum bhee haal poochh
sakate ho hamaara … kuchh haq …
die nahin jaate …. lie jaate hain .

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *