0

Gulzar Shayari

जरा सा भी नही पिघलता दिल तुम्हारा , इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा .. ? jara sa bhee nahee pighalata dil tumhaara , itana qeematee patthar kahaan se khareeda .. ? बहुत अजीब से हो गए हैं ये रिश्ते… Continue Reading