0

Best Gulzar Shayari of life | gulzar shayari in hindi 2020

87 / 100

Gulzar Shayari for love | gulzar shayari in hindi 2020Gulzar Shayari for love | gulzar shayari in hindi 2020Gulzar Shayari for love | gulzar shayari in hindi 2020Gulzar Shayari for love | gulzar shayari in hindi 2020gulzar shayari life | gulzar shayari of best | Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar Ki Shayari Best Shayari of Gulzar |Gulzar Shayari in Hindi

Gulzar shayari of life

बिना मोबाइल खाली हाथ नज़र
आ जाये कोई तो खामख्वाह ही
हाथ मिलाने को जी करता है .
bina mobail khaalee
haath nazar aa jaaye
koee to khaamakhvaah
hee haath milaane ko
jee karata hai .

एक खामोशी पसरी है दरम्यां ..
कुछ कहना उसे भी है …
कुछ बताना मुझे भी है ..
मगर क्या करे.चुप रहना मजबूरी भी है ..
चुप रहना जरूरी भी है …
ek khaamoshee pasaree hai
daramyaan .kuchh kahana
use bhee hai .
kuchh bataana mujhe bhee hai .
magar kya kare ..
chup rahana majabooree bhee hai..
chup rahana jarooree bhee hai … Gulzar shayari

 

gulzar shayari

gulzar shayari

Gulzar shayari life in hindi

जरा सा भी नही पिघलता दिल तुम्हारा ,
इतना क़ीमती पत्थर कहाँसे ख़रीदा .. ?
jara sa bhee nahee pighalata
dil tumhaara , itana qeematee
patthar kahaanse khareeda .. ?

बहुत दिनों से कोई नया जख्म नहीं मिला ,
जरा पता तो करो ये अपने है कहाँ !
bahut dinon se koee naya
jakhm nahin mila , jara pata
to karo ye apane hai kahaan !

मेरे ज़रा तीखा बोलने पे आ जाती है
तुम में कड़वाहट ये इश्क़ है
या इश्क़ के नाम पे मिलावट.
mere zara teekha bolane
pe aa jaatee hai tum mein
kadavaahat ye ishq hai
ya ishq ke naam pe milaavat.

फ़र्क था हम दोनों कि मोहब्बत में
मुझे उससे ही थी उसे मुझसे भी थी
fark tha ham donon ki
mohabbat mein mujhe usase
hee thee use mujhase bhee thee

embulens sa ho gaya hai ,
ye jism saara din ghaayal
dil ko , liye phirata hai !

देखा है दुनियां को दुःखी ,
पर मुझे खुश रहना है ।
क्योंकि बस अब से मुझे दूसरो में नहीं ,
अपने आप में ही जो जीना है ।।
dekha hai duniyaan ko duhkhee ,
par mujhe khush rahana hai .
kyonki bas ab se mujhe
doosaro mein nahin ,
apane aap mein hee jo jeena hai .. Gulzar Shayari

 

gulzar shayari

gulzar shayari

Gulzar shayari life in hindi

कभी पूरा पूरा कभी आधा सा
कभी एक टुकड़ा कभी ओझल सा
कभी रक्तिम कभी मद्धिम मेरे
लफ्ज़ो में उसका प्रतिबिंब बिल्कुल चाँद सा !!
kabhee poora poora kabhee
aadha sa kabhee ek tukada
kabhee ojhal sa kabhee
raktim kabhee maddhim
mere laphzo mein usaka
pratibimb bilkul chaand sa !!

खुदा हो या इश्क ..
दोनों का जिक्र होता है बयां नहीं होता . ,
khuda ho ya ishk ..
donon ka jikr hota hai
bayaan nahin hota .

एक उम्र वो थी कि जाद पे भी
यक़ीन था एक उम्र ये है कि
हक़ीक़त पे भी शक है
ek umr vo thee ki jaad pe
bhee yaqeen tha ek umr
ye hai ki haqeeqat pe
bhee shak hai

na ilaaj hai na davaee
hai ai ishq tere takkar
kee beemaaree aaee hai .

सिर्फ एक सफ़ाह पलटकर उसने ,
बीती बातों की दुहाई दी है ।
फिर वहीं लौट के जाना होगा ,
यार ने कैसी रिहाई दी है
sirph ek safaah palatakar usane ,
beetee baaton kee duhaee
dee hai . phir vaheen laut ke
jaana hoga , yaar ne kaisee
rihaee dee hai .

 

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari of life hindi 

सिर्फ एक सफ़ाह पलटकर उसने ,
बीती बातों की दुहाई दी है ।
फिर वहीं लौट के जाना होगा ,
रिहाई दी है ।
sirph ek safaah palatakar usane ,
beetee baaton kee duhaee dee hai .
phir vaheen laut ke jaana hoga ,
rihaee dee hai .

बुझ जाएंगी सारी आवाजें यादें यादें रह
जाएंगी तस्वीरें बचेंगी आँखों में
और बातें सब बह जाएंगी
bujh jaengee saaree aavaajen
yaaden yaaden rah jaengee
tasveeren bachengee aankhon
mein aur baaten sab bah jaengee

हम तो अब याद भी नहीं करते ,
आप को हिचकी लग गई कैसे ?
ham to ab yaad bhee nahin karate ,
aap ko hichakee lag gaee kaise.

सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो
तुम कभी वो भी पढ़ो जो हम
कह नहीं पाते हैं …
suna hain kaaphee padh
likh gae ho tum kabhee
vo bhee padho jo ham
kah nahin paate hain …

 

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shahab ki shayari

यकीन मानिए मेरी बात का ,
खामोश रहना ही यहाँ बहुत बेहतर है ,
बोलकर तो यहाँ सिर्फ जज्बातों के
सिर्फ तमाशे बनते हैं .
yakeen maanie meree baat ka ,
khaamosh rahana hee
yahaan bahut behatar hai ,
bolakar to yahaan sirph
jajbaaton ke sirph tamaashe
banate hain .

aaj pata chala mujhe kee ” maut ”
kitanee haseen hotee hai kamabakht .
ham to yooheen jindagee jeeye
ja rahe the ..

लकीरें हैं .तो रहने दो किसी ने
रूठ कर गुस्से में शायद खींच दी थी
lakeeren hain .to rahane do
kisee ne rooth kar gusse mein
shaayad kheench dee thee

थोड़ा सा रफू करके देखिए ना …
फिर से नयी सी लगेगी जिंदगी ही तो है ..
thoda sa raphoo karake dekhie na .
phir se nayee see lagegee
jindagee hee to hai …

 

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shahab ki shayari in hindi 

सर झुकाने की खूबसूरती भी
क्या कमाल की होती हैं …
धरती पर सर रखों और दुआ
आसमान में कुबूल हो जाती हैं …
sar jhukaane kee khoobasooratee
bhee kya kamaal kee hotee hain …
dharatee par sar rakhon aur
dua aasamaan mein kubool
ho jaatee hain …

मैं हर रात सारी ख्वाहिशो को खुद
से पहले सुला देता हूँ . हैरत यह है
की हर सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है ।
main har raat saaree khvaahisho
ko khud se pahale sula
deta hoon . hairat yah hai
kee har subah ye mujhase
pahale jaag jaatee hai .

क्यों डरें की ज़िन्दगी में क्या होगा ,
हर वक्त क्यों सोचें कि बस बुरा होगा ,
बढ़ते रहें बस अपनी मंजिलों की ओर ,
कुछ न भी मिला तो क्या तजुर्बा तो होगा ।
kyon daren kee zindagee
mein kya hoga , har vakt kyon
sochen ki bas bura hoga ,
badhate rahen bas apanee
manjilon kee or , kuchh na
bhee mila to kya tajurba to hoga .

 

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari life in hindi 

जैसे कि वो भूल गया है
मुझे वो बेफिक्र वक्त आज
कल मिलता ही नहीं ।।
jaise ki vo bhool gaya hai
mujhe vo bephikr vakt aaj
kal milata hee nahin ।।

हँसता तो मैं रोज़ हूँ
मगर खुश हुए जमाना हो गया ।
hansata to main roz hoon
magar khush hue jamaana ho gaya .

अलग करना भीड़ से हट के चलिए
भीड़ साहस तो देती पहचान छिन
alag karana bheed se hat ke
chalie bheed saahas to
detee pahachaan chhin

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए ,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं
kuchh alag karana ho to
bheed se hat ke chalie ,
bheed saahas to detee
hain magar pahachaan
chhin letee hain

इक गुमनाम रात लिलूँगा तुम्हें
चमकता चाँद लिखुंगा शिकवे
सारे तारे बनेंगे करवटों को दाग़
लिलूँगा सारे सवाल जुगनू बनेंगे
रतजगों को बरगद लिलूँगा
ik gumanaam raat liloonga
tumhen chamakata chaand
likhunga shikave saare
taare banenge karavaton
ko daag liloonga saare
savaal juganoo banenge
ratajagon ko baragad liloonga

gulzar shayari

gulzar shayari

Sulzar life Shayari 

बहुत मुश्किल से करता हूँ ,
तेरी यादों का कारोबार ,
मुनाफा कम है ,
पर गुज़ारा हो ही जाता हैं !
bahut mushkil se karata hoon ,
teree yaadon ka kaarobaar ,
munaapha kam hai ,
par guzaara ho hee jaata hain !

अगर आपके दिल में देश प्रेम सच्चा है
तो आज घर पर ही रहो देश के
लिए अच्छा है
agar aapake dil mein desh
prem sachcha hai to aaj
ghar par hee raho desh
ke lie achchha hai

मंजिलें भी जिद्दी हैं ,
रास्ते भी जिद्दी हैं ,
देखतें हैं कल क्या हो ,
हौंसले भी जिद्दी है ।
manjilen bhee jiddee hain ,
raaste bhee jiddee hain ,
dekhaten hain kal kya ho ,
haunsale bhee jiddee hai .

gulzar shayari is best

लोग कहते हैं समझो तो खामोशियाँ
भी बोलती हैं , मैं अरसे से खामोश हैं
वो बरसों से बेख़बर है
log kahate hain samajho
to khaamoshiyaan bhee
bolatee hain , main arase
se khaamosh hain vo barason
se bekhabar hai

परेशां है इस बात पर वो की
उन्हें कोई समझ नहीं पाया ।
जरा सोच के देखो तुमने
कितनो को समझ लिया ।
pareshaan hai is baat
par vo kee unhen koee
samajh nahin paaya .
jara soch ke dekho tumane
kitano ko samajh liya .

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *