0

Gulzar Shayari Yaadein | Best gulzar shayari in hindi 2020

83 / 100

best gulzar shayari in yaadein , gulzar shayrai in hindi , shayari in motivation ,gulzar shayari in love , gulzar shayari in dosti …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in yaadein

अभी भी वक्त है ,
वक़्त यूँ बेकार ना कर ,
खींच ले कमान पर तीर ,
और वार कर ज़्यादा से
ज़्यादा निशाना चूक जाएगा
जीतना है अगर , कौशिशे
सौ बार कर .
abhee bhee vakt hai ,
vaqt yoon bekaar na kar ,
kheench le kamaan par teer ,
aur vaar kar zyaada se zyaada
nishaana chook jaega jeetana
hai agar , kaushishe sau baar kar .

यादें जिंदा रखती हैं एक इंसा
को इंसा के अंदर , वरना रुका
कौन है , यहां वक़्त पूरा होने
के बाद .. !! ”
abhee bhee vakt hai ,
vaqt yoon bekaar na kar ,
kheench le kamaan par teer ,
aur vaar kar zyaada se
zyaada nishaana chook
jaega jeetana hai agar ,
kaushishe sau baar kar .

किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं ,
अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर खामोश ! . !
kitaaben bhee bilkul meree
tarah hain , alfaaz se bharapoor
magar khaamosh ! . !

बिना बताए चले जाहे हो ।
जाके बताऊँ कैसा लगता है ?
चलते चलते मेरा साया कभी कभी
यूँ करता है ज़मीन से उठकर ,
सामने आकर हाथ पकड़ कर
कहता है अबकी बार में आगे
आगे चलता हूँ और तू मेरा पीछा
करके देख जरा क्या होता है ?
bina batae chale jaahe ho .
jaake bataoon kaisa lagata hai ?
chalate chalate mera saaya
kabhee kabhee yoon karata
hai zameen se uthakar ,
saamane aakar haath pakad
kar kahata hai abakee baar
mein aage aage chalata hoon
aur too mera peechha karake
dekh jara kya hota hai ?

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi

काश कुछ अल्फ़ाज़ मुझे लिखने

आ जाए . काश मौत हमें गले से
लगा जाये उसके बिना बहुत तड़प
चुके काश वो मेरे पास वापस आ जाये .
kaash kuchh alfaaz mujhe
likhane aa jae . kaash maut
hamen gale se laga jaaye
usake bina bahut tadap
chuke kaash vo mere paas
vaapas aa jaaye .

जब मिलो किसी से तो जरा दूर
का रिश्ता रखना , बहुत तङपाते है
अक्सर सीने से लगाने वाले !
jab milo kisee se to jara
door ka rishta rakhana ,
bahut tanapaate hai aksar
seene se lagaane vaale !

बिखेरे बैठा हूँ कमरे में सब कुछ ..
कहीं इक ख्वाब रखा था , वो भी गुम है
bikhere baitha hoon kamare
mein sab kuchh .. kaheen ik
khvaab rakha tha , vo bhee
gum hai .

दोस्ती करो हमेशा मुस्कुराके !!
किसी को धोखा ना दो अपना बनाके !!
करलो याद जब तक हम ज़िंदा हैं !!
फिर ना कहना चले गए दिल में .
यादें बसा के !!
dostee karo hamesha muskuraake !!
kisee ko dhokha na do apana banaake !!
karalo yaad jab tak ham zinda hain !!
phir na kahana chale gae dil mein .
yaaden basa ke !!

yaadein in gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

गुमनाम दिल की बस्ती में ,
फिरसे सैर पे निकल आया हूं ..
पुरानी यादें ज़रा शोर मचा रही थीं ,
थोड़ घुमाने ले आया हूं !!
gumanaam dil kee bastee
mein , phirase sair pe nikal
aaya hoon .. puraanee yaaden
zara shor macha rahee theen ,
thod ghumaane le aaya hoon !!

याद है वो बचपन की अमीरी ,
न जाने अब कहां खो गई ..
वो दिन ही कुछ और थे ,
जब बारिश के पानी में हमारे
yaad hai vo bachapan kee ameeree ,
na jaane ab kahaan kho gaee ..
vo din hee kuchh aur the ,
jab baarish ke paanee mein
hamaare bhee jahaaj chala karate the …

अब दर्द से शिकायत नहीं . ??
शिकवे से मुहब्बत तुमसे दूर जबसे हुए हैं
” राज ” यही तो कर रहे हैं ….
ab dard se shikaayat nahin .
shikave se muhabbat tumase
door jabase hue hain
” raaj ” yahee to kar rahe hain ….

तुम दूर हो मगर दिल में ये
एहसास होता है कोई है जो
हर पल दिल के पास होता है
याद तो सब की आती है
अक्सर मगर उनकी याद का
एहसास ही ख़ास होता है .
tum door ho magar dil
mein ye ehasaas hota
hai koee hai jo har pal
dil ke paas hota hai yaad
to sab kee aatee hai aksar
magar unakee yaad ka
ehasaas hee khaas hota hai .

तेरी खुशिओं को सजाना चाहता हूँ ,
तुझे देखकर मुस्कराना चाहता हूँ ,
मेरी जिन्दगी में क्या अहमियत है तेरी ,
ये लब्जों में नही , पास आकर बताना
चाहता हूँ ।
teree khushion ko sajaana
chaahata hoon , tujhe dekhakar
muskaraana chaahata hoon ,
meree jindagee mein kya
ahamiyat hai teree , ye labjon
mein nahee , paas aakar
bataana chaahata hoon .

तुमधले गए मगर यादें छोड़ गए
tumadhale gae magar yaaden
chhod gae .

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari yaadein in hind

इस काश की कश्मकश में कितना
उलझ गया हू में कोई बताओ मुझे ,
में वही हूँ मा बदल गया हूं में ।
is kaash kee kashmakash
mein kitana ulajh gaya hoo
mein koee batao mujhe ,
mein vahee hoon ma badal
gaya hoon mein ।

इतना तो तुझे किसी ने चाहा भी नहीं
होगा जीतना मैंने सिर्फ तुझे याद किया है
itana to tujhe kisee ne chaaha
bhee nahin hoga jeetana mainne
sirph tujhe yaad kiya hai .

उसकी यादें कहती हैं खुदखुशी करले ,
लेकिन दिल कहता है कि माँ बहुत रोएगी .
usakee yaaden kahatee hain
khudakhushee karale , lekin dil
kahata hai ki maan bahut roegee .

तुम बहुत बिखरे से लग रहे हो ,
संभल जाएंगे सब कुछ ,
तुम एक बार खुद को समेट
कर तो देखो । जिंदगी भी
गुलजार होगी , बस एक बार
दुख में भी मुस्कुरा कर तो देखो ।
तुम खामोशियों को पनाह देते हो ,
एक बार अपनी उलझनों को बोल
कर तो देखो यह वक्त भी गुजर जाएगा ,
तुम इसे खुशी से जी कर तो देखो ।

tum bahut bikhare se lag rahe ho ,
sambhal jaenge sab kuchh ,
tum ek baar khud ko samet
kar to dekho . jindagee bhee
gulajaar hogee , bas ek baar
dukh mein bhee muskura kar
to dekho . tum khaamoshiyon
ko panaah dete ho , ek baar
apanee ulajhanon ko bol kar
to dekho yah vakt bhee gujar
jaega , tum ise khushee se
jee kar to dekho …gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari in yaadein

जम इतना गहरा है इजहार क्या करें ।
हम खुद निशा बन गये औरो का क्या करें ।
मर गाए हम मगर खुली रही औरखे हमरी
क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतेज़ार हैं ।
jam itana gahara hai ijahaar
kya karen . ham khud nisha
ban gaye auro ka kya karen .
mar gae ham magar khulee
rahee aurakhe hamaree kyonki
hamaaree aankhon ko unaka
intezaar hain .

एक तो गुस्ताख़ तेरी यादें ,
जले पर नमक सी ये सर्द अँधेरी रात …
दरकार है तो बस मुलाकात की ,
ख्वाबों में तो होती रहती बात ..।
ek to gustaakh teree yaaden ,
jale par namak see ye sard
andheree raat … darakaar hai
to bas mulaakaat kee ,
khvaabon mein to hotee
rahatee baat …

आँखों पर कुछ ऐसे तुमने जुल्फ
गिरा दी हैं बेचारे से कुछ ख़्वाबों
की नींद उड़ा दी हैं !
aankhon par kuchh aise
tumane julph gira dee hain
bechaare se kuchh khvaabon
kee neend uda dee hain !

कितना सताती है किसी की
बेबस यादें ऐरात अब तो गुज़र
जा के अब रहा नहीं जाता .

kitana sataatee hai kisee
kee bebas yaaden airaat
ab to guzar ja ke ab raha
nahin jaata .

फिर कुछ ऐसे भी मुझे आज़माया गया ,
पंख काटे गए , आसमां में उड़ाया गया
phir kuchh aise bhee mujhe
aazamaaya gaya , pankh
kaate gae , aasamaan mein
udaaya gaya …..gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar yaadein shayari

तुम्हारे बगैर किस बात की होली बस
एक दिन हे , जैसे तैसे गुज़ार लेंगे ।
tumhaare bagair kis baat kee
holee bas ek din he ,
jaise taise guzaar lenge .

मुसाफ़िर कल भी था मुसाफ़िर
आज भी हूँ कल अपनो की तलाश
में था आज अपनी तलाश में हूँ .
musaafir kal bhee tha
musaafir aaj bhee hoon
kal apano kee talaash
mein tha aaj apanee
talaash mein hoon .

यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए ,
कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए ,
रिश्ते निभाना कोई मुश्किला तो नहीं ,
बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए |
yaaden aksar hotee hain

sataane ke lie , koee rooth
jaata hai phir maan jaane ke
lie , rishte nibhaana koee
mushkila to nahin , bas
dilon mein pyaar chaahie
use nibhaane ke lie |

उम्र जाया कर दी लोगों ने औरों
के वजूद में नुक्स निकालते – निकालते
इतना ख़ुद को तराशा होता तो फ़रिश्ते
बन जाते .
umr jaaya kar dee logon ne auron
ke vajood mein nuks nikaalate –
nikaalate itana khud ko taraasha
hota to farishte ban jaate .

आप के बाद हर घड़ी हम ने ;
आप के साथ ही गुजारी है !
aap ke baad har ghadee
ham ne ; aap ke saath
hee gujaaree hai !

हैरान हूं मैं दिल अब पहले सा
मासूम नहीं रहा पत्थर तो नहीं
बना मगर अब मोम भी नहीं रहा .
hairaan hoon main dil ab
pahale sa maasoom nahin
raha patthar to nahin bana
magar ab mom bhee nahin raha …gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

yaadein shayari in hindi

मौसम – ए – इश्क है तू एक कहानी बन के आ ,
मेरे रूह को भिगो दें जो तू वो पानी बन के आ !
mausam – e – ishk hai too ek
kahaanee ban ke aa , mere rooh
ko bhigo den jo too vo paanee
ban ke aa !

दूरियों की ना परवाह कीजिये ,
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये ,
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे ,
बस अपनी पलकों को आँखों
से मिला लीजिये ।
dooriyon kee na paravaah keejiye ,
dil jab bhee pukaare bula leejiye ,
kaheen door nahin hain ham
aapase , bas apanee palakon
ko aankhon se mila leejiye .

बिना समझ के भी , हम कितने सच्चे थे ,
वो भी क्या दिन थे , जब हम बच्चे थे ।
bina samajh ke bhee ,
ham kitane sachche the ,
vo bhee kya din the ,
jab ham bachche the .

कितनी आसानी से कह दिया तुमने ,
कि बस अब तुम मुझे भूल जाओ ,
साफ साफ लफ्जो मे कह दिया होता ,
कि बहुत जी लिये अब तुम मर जाओ .
kitanee aasaanee se kah diya
tumane , ki bas ab tum mujhe
bhool jao , saaph saaph laphjo
me kah diya hota , ki bahut jee
liye ab tum mar jao .

दुनिया भर की यादें हमसे मिलने आती हैं
शाम ढले इस सूने घर में मेला लगता है
duniya bhar kee yaaden hamase
milane aatee hain shaam dhale
is soone ghar mein mela lagata hai ….gulzar shayari

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *