0

Gulzar shayari motivation | gulzar shayari in hindi 2020

80 / 100

gulzar shayari for dosti ,gulzar shayari motivational , gulzar shayari for love ,gulzar shayari for zindagi , gulzar shayari life ,gulzar shayari in hindi…..

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in motivation

सोचने से कहाँ मिलते हैं
तमन्नाओं के शहर ,
चलना भी जरुरी है
मंजिल को पाने के लिए ।
sochane se kahaan milate
hain tamannaon ke shahar ,
chalana bhee jaruree hai
manjil ko paane ke lie .

संघर्ष में आदमी अकेला होता है ,
सफलता में दुनिया इसके साथ होती है ,
जिस – जिस पर ये जग हँसा है ,
उसीने इतिहास रचा है …
sangharsh mein aadamee
akela hota hai , saphalata
mein duniya isake saath
hotee hai , jis – jis par ye
jag hansa hai , useene
itihaas racha hai …

काबिलियत इतनी बढाओ कि
तुम्हे हराने के लिए कोसिस नहीं
साज़िस करनी पड़े ।
kaabiliyat itanee badhao
ki tumhe haraane ke lie
kosis nahin saazis karanee
pade .

लोग क्या करते है ये आपके
लिए मायने नही रखती है
लेकिन आप क्या करते है
आपके लिए खास होती है
log kya karate hai ye
aapake lie maayane
nahee rakhatee hai
lekin aap kya karate
hai aapake lie khaas
hotee hai .

तकदीर के खेल से निराश नहीं होते ,
जिंदगी में ऐसे कभी उदास नहीं होते ,
हाथों की लकीरों पर क्यों भरोसा करते हो ,
तकदीर उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते ।
takadeer ke khel se niraash
nahin hote , jindagee mein
aise kabhee udaas nahin
hote , haathon kee lakeeron
par kyon bharosa karate ho ,
takadeer unakee bhee hotee
hai jinake haath nahin hote .

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar motivation shayari 

एक दिन मुझसे लिपटकर समय भी रोयेगा ,
और कहेगा  तू तो बंदा सही था मैं ही
ख़राब चल रहा था ..
ek din mujhase lipatakar samay
bhee royega , aur kahega too to
banda sahee tha main hee
kharaab chal raha tha ..

हम यह सोच कर अपने दर्द बयां नहीं
करते यह दुनिया है यहां लोग दया नहीं करते
ham yah soch kar apane dard
bayaan nahin karate yah duniya
hai yahaan log daya nahin karate

कैसे बताऊ में तुम्हें ,
मेरे लिए तुम कौन हो ….. ?
kaise bataoo mein tumhen ,
mere lie tum kaun ho ….. ?

उसको बिछड़ने का तरीका भी नहीं
आता जाते जाते खुद को मेरेदिल में छोड़ गया
usako bichhadane ka tareeka
bhee nahin aata jaate jaate
khud ko meredil mein chhod gaya

बोलने का हुनर सीख रहा हूं
मैं भी अब मीठा झूठ कड़वे
सच ने हमसे , ना जाने कितने
अजीत छीन लिए .
bolane ka hunar seekh
raha hoon main bhee ab
meetha jhooth kadave
sach ne hamase , na
jaane kitane ajeet chheen lie .

तेरे मुस्कुराने का असर सेहत पे होता है
लोग पूछ लेते है..दवा का नाम क्या है .
tere muskuraane ka asar
sehat pe hota hai log poochh
lete hai..dava ka naam kya hai .

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi motivation

तेरी आंखें हैं या इतजार का अखबार
हर दफा बड़ी फुर्सतसे पढ़ता हूँ
teree aankhen hain ya itajaar
ka akhabaar har dapha badee
phursatase padhata hoon .

कभी चाँद की तरह टपकी कभी
राह में पड़ी पाई कभी छींक की
तरह खनकी कभी जेब से निकल
आई अठन्नी – सी ज़िन्दगी ये जिन्दगी !
kabhee chaand kee tarah
tapakee kabhee raah mein
padee paee kabhee chheenk
kee tarah khanakee kabhee
jeb se nikal aaee athannee – see
zindagee ye jindagee !

” kyoon bojh ho jaate hain jhuke
hue kaandhe .. jin par chadhakar
kabhee mela dekha karate the !

कुछ रिश्ते किराए के मकान जैसे होते है
उन्हें आप कितना भी सजालो कभी
आपके नही होते !
kuchh rishte kirae ke makaan
jaise hote hai unhen aap kitana
bhee sajaalo kabhee aapake
nahee hote !

saans lena bhee kaisee aadat
hai jeeye jaana bhee kya ravaayat
hai koee aahat nahin badan
mein kaheen koee saaya nahin
hai aankhon mein paanv behis
hain , chalate jaate hain ik saphar
hai jo bahata rahata hai kitane
barason se , kitanee sadiyon se
jiye jaate hain , jiye jaate hain
aadaten bhee ajeeb hotee hain ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

motivation hindi shayari

गुलाम थे तो हम सब हिन्दुस्तानी थे
आजादी ने हमको हिन्दु – मुसलमान बना दिया ..
gulaam the to ham sab
hindustaanee the aajaadee
ne hamako hindu – musalamaan
bana diya ..

जिससे मिलने के बाद जीने की उम्मीद
बढ़ जाये , समझना वही प्रेम है .
jisase milane ke baad jeene
kee ummeed badh jaaye ,
samajhana vahee prem hai .

उम्र ने तलाशी ली ,
तो जेब से लम्हे बरामद हुए ..
कुछ ग़म के थे , कुछ नम थे ,
कुछ टूटे .. बस कुछ ही सही
सलामत मिले जो बचपन के थे …
umr ne talaashee lee ,
to jeb se lamhe baraamad hue ..
kuchh gam ke the ,
kuchh nam the , kuchh toote ..
bas kuchh hee sahee
salaamat mile jo bachapan
ke the …

उड़ने में बुराई नहीं है ,
आप भी उड़ें , लेकिन
उतना ही जहाँ से जमीन
साफ़ दिखाई देती हो .
udane mein buraee
nahin hai , aap bhee uden ,
lekin utana hee jahaan se
jameen saaf dikhaee detee ho .

ख्वाबो के हुजूम में चाहत की क्या
बात करें इरादे कामयाबी हैं , सपने
नवाबी हैं तो भला उन चोटो की क्या
बात करे कुचलने में जो लगी है
दुनिया उन सपनों की क्या बात करें
ख्वाबो के हुजूम में चाहत की क्या
बात करें जिन ख़्वाबो की नीद लगी हैं
उनके हौसलों की क्या बात कर जब
उस आसमां को छूने निकले हैं तो
गिरने की क्या बात करें ख्वाबो के
हुजूम में चाहत की क्या बात करें .
khvaabo ke hujoom mein
chaahat kee kya baat karen
iraade kaamayaabee hain ,
sapane navaabee hain to
bhala un choto kee kya baat
kare kuchalane mein jo lagee
hai duniya un sapanon kee kya
baat karen khvaabo ke hujoom
mein chaahat kee kya baat karen
jin khvaabo kee need lagee hain
unake hausalon kee kya baat kar
jab us aasamaan ko chhoone
nikale hain to girane kee kya
baat karen khvaabo ke hujoom
mein chaahat kee kya baat karen ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

motivaion in hindi shayari

फूल खिलते रहे जिंदगी की राह में ;
हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में ;
कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बाहर
आपको ; दिल देता है यही दुआ
बार – बार आपको .
phool khilate rahe jindagee
kee raah mein ; hansee
chamakatee rahe aapakee
nigaah mein ; kadam kadam
par mile khushee kee baahar
aapako ; dil deta hai yahee dua
baar – baar aapako .

दिल की एक ही खवाहिश हैं
धड़कनों की एक ही इच्छा है
के तुम मुझे अपनी बाहों में
पनाह दे दो , और में खो जाओ .
dil kee ek hee khavaahish
hain dhadakanon kee ek
hee ichchha hai ke tum
mujhe apanee baahon
mein panaah de do ,
aur mein kho jao .

हमने जब कहा नशा शराब का
लाजवाब है तो उसने अपने होठों
से सारे वहम तोड़ दिए .
hamane jab kaha nasha
sharaab ka laajavaab hai
to usane apane hothon se
saare vaham tod die .

सोचने से कहाँ मिलते हैं
तमन्नाओं के शहर ,
चलना भी जरुरी है
मंजिल को पाने के लिए ।
sochane se kahaan milate
hain tamannaon ke shahar ,
chalana bhee jaruree hai
manjil ko paane ke lie .

संघर्ष में आदमी अकेला होता है ,
सफलता में दुनिया इसके साथ होती है ,
जिस – जिस पर ये जग हँसा है ,
उसीने इतिहास रचा है …
sangharsh mein aadamee
akela hota hai , saphalata
mein duniya isake saath
hotee hai , jis – jis par ye
jag hansa hai , useene
itihaas racha hai …

काबिलियत इतनी बढाओ कि
तुम्हे हराने के लिए कोसिस नहीं
साज़िस करनी पड़े ।
kaabiliyat itanee badhao
ki tumhe haraane ke lie
kosis nahin saazis karanee
pade ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

hindi shayari in motivation

लोग क्या करते है ये आपके
लिए मायने नही रखती है
लेकिन आप क्या करते है
आपके लिए खास होती है
log kya karate hai ye
aapake lie maayane
nahee rakhatee hai
lekin aap kya karate
hai aapake lie khaas
hotee hai .

तकदीर के खेल से निराश नहीं होते ,
जिंदगी में ऐसे कभी उदास नहीं होते ,
हाथों की लकीरों पर क्यों भरोसा करते हो ,
तकदीर उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते ।
takadeer ke khel se niraash
nahin hote , jindagee mein
aise kabhee udaas nahin
hote , haathon kee lakeeron
par kyon bharosa karate ho ,
takadeer unakee bhee hotee
hai jinake haath nahin hote .

एक दिन मुझसे लिपटकर समय भी रोयेगा ,
और कहेगा  तू तो बंदा सही था मैं ही
ख़राब चल रहा था ..
ek din mujhase lipatakar samay
bhee royega , aur kahega too to
banda sahee tha main hee
kharaab chal raha tha ..

हम यह सोच कर अपने दर्द बयां नहीं
करते यह दुनिया है यहां लोग दया नहीं करते
ham yah soch kar apane dard
bayaan nahin karate yah duniya
hai yahaan log daya nahin karate

कैसे बताऊ में तुम्हें ,
मेरे लिए तुम कौन हो ….. ?
kaise bataoo mein tumhen ,
mere lie tum kaun ho ….. ?

उसको बिछड़ने का तरीका भी नहीं
आता जाते जाते खुद को मेरेदिल में छोड़ गया
usako bichhadane ka tareeka
bhee nahin aata jaate jaate
khud ko meredil mein chhod gaya

बोलने का हुनर सीख रहा हूं
मैं भी अब मीठा झूठ कड़वे
सच ने हमसे , ना जाने कितने
अजीत छीन लिए .
bolane ka hunar seekh
raha hoon main bhee ab
meetha jhooth kadave
sach ne hamase , na
jaane kitane ajeet chheen lie .

तेरे मुस्कुराने का असर सेहत पे होता है
लोग पूछ लेते है..दवा का नाम क्या है .
tere muskuraane ka asar
sehat pe hota hai log poochh
lete hai..dava ka naam kya hai ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

motivation in hindi

तेरी आंखें हैं या इतजार का अखबार
हर दफा बड़ी फुर्सतसे पढ़ता हूँ
teree aankhen hain ya itajaar
ka akhabaar har dapha badee
phursatase padhata hoon .

कभी चाँद की तरह टपकी कभी
राह में पड़ी पाई कभी छींक की
तरह खनकी कभी जेब से निकल
आई अठन्नी – सी ज़िन्दगी ये जिन्दगी !
kabhee chaand kee tarah
tapakee kabhee raah mein
padee paee kabhee chheenk
kee tarah khanakee kabhee
jeb se nikal aaee athannee – see
zindagee ye jindagee !

कुछ रिश्ते किराए के मकान जैसे होते है
उन्हें आप कितना भी सजालो कभी
आपके नही होते !
kuchh rishte kirae ke makaan
jaise hote hai unhen aap kitana
bhee sajaalo kabhee aapake

गुलाम थे तो हम सब हिन्दुस्तानी थे
आजादी ने हमको हिन्दु – मुसलमान बना दिया ..
gulaam the to ham sab
hindustaanee the aajaadee
ne hamako hindu – musalamaan
bana diya ..

जिससे मिलने के बाद जीने की उम्मीद
बढ़ जाये , समझना वही प्रेम है .
jisase milane ke baad jeene
kee ummeed badh jaaye ,
samajhana vahee prem hai .

उम्र ने तलाशी ली ,
तो जेब से लम्हे बरामद हुए ..
कुछ ग़म के थे , कुछ नम थे ,
कुछ टूटे .. बस कुछ ही सही
सलामत मिले जो बचपन के थे …
umr ne talaashee lee ,
to jeb se lamhe baraamad hue ..
kuchh gam ke the ,
kuchh nam the , kuchh toote ..
bas kuchh hee sahee
salaamat mile jo bachapan
ke the …

उड़ने में बुराई नहीं है ,
आप भी उड़ें , लेकिन
उतना ही जहाँ से जमीन
साफ़ दिखाई देती हो .
udane mein buraee
nahin hai , aap bhee uden ,
lekin utana hee jahaan se
jameen saaf dikhaee detee ho .

ख्वाबो के हुजूम में चाहत की क्या
बात करें इरादे कामयाबी हैं , सपने
नवाबी हैं तो भला उन चोटो की क्या
बात करे कुचलने में जो लगी है
दुनिया उन सपनों की क्या बात करें
ख्वाबो के हुजूम में चाहत की क्या
बात करें जिन ख़्वाबो की नीद लगी हैं
उनके हौसलों की क्या बात कर जब
उस आसमां को छूने निकले हैं तो
गिरने की क्या बात करें ख्वाबो के
हुजूम में चाहत की क्या बात करें .
khvaabo ke hujoom mein
chaahat kee kya baat karen
iraade kaamayaabee hain ,
sapane navaabee hain to
bhala un choto kee kya baat
kare kuchalane mein jo lagee
hai duniya un sapanon kee kya
baat karen khvaabo ke hujoom
mein chaahat kee kya baat karen
jin khvaabo kee need lagee hain
unake hausalon kee kya baat kar
jab us aasamaan ko chhoone
nikale hain to girane kee kya
baat karen khvaabo ke hujoom
mein chaahat kee kya baat karen …gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

hindi gulzar shayari in motivation 

फूल खिलते रहे जिंदगी की राह में ;
हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में ;
कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बाहर
आपको ; दिल देता है यही दुआ
बार – बार आपको .
phool khilate rahe jindagee
kee raah mein ; hansee
chamakatee rahe aapakee
nigaah mein ; kadam kadam
par mile khushee kee baahar
aapako ; dil deta hai yahee dua
baar – baar aapako .

दिल की एक ही खवाहिश हैं
धड़कनों की एक ही इच्छा है
के तुम मुझे अपनी बाहों में
पनाह दे दो , और में खो जाओ .
dil kee ek hee khavaahish
hain dhadakanon kee ek
hee ichchha hai ke tum
mujhe apanee baahon
mein panaah de do ,
aur mein kho jao .

हमने जब कहा नशा शराब का
लाजवाब है तो उसने अपने होठों
से सारे वहम तोड़ दिए .
hamane jab kaha nasha
sharaab ka laajavaab hai
to usane apane hothon se
saare vaham tod die .

थोड़ा सुकून भी ढूंढिये जनाब ,
ये जरूरतें तो कभी खत्म नहीं होगी .

thoda sukoon bhee dhoondhiye
janaab , ye jarooraten to kabhee
khatm nahin hogee .

तेरी तो फितरत थी सबसे मुहब्बत
करने की हमतोबेवजह खुद को
खुशनसीब समझने लगे .
teree to phitarat thee sabase
muhabbat karane kee
hamatobevajah khud ko
khushanaseeb samajhane lage .

उम्र ने तलाशी ली ,
तो जेब से लम्हे बरामद हुए ..
कुछ ग़म के थे , कुछ नम थे ,
कुछ टूटे .. बस कुछ ही सही
सलामत मिले जो बचपन के थे …
umr ne talaashee lee ,
to jeb se lamhe baraamad hue ..
kuchh gam ke the , kuchh nam the ,
kuchh toote .. bas kuchh hee sahee . salaamat mile jo bachapan ke the …

दरहोना किस्मत में था
अलग होना चाहतथी तुम्हारी …
darahona kismat mein tha alag
hona chaahatathee tumhaaree … gulzar shayari


			

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *