0

Best Gulzar Shayari in friendship | gulzar shayari in hindi 2020

81 / 100

best gulzar shayari in friendship , gulzar shayrai in hindi , shayari in motivation ,gulzar shayari in love , gulzar shayari in dosti …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in friendship

खुदा बुरी नजर से बचाए आप को ,
चाँद सितारों से सजाए आप को ,
गम क्या होता है ये आप भूल ही
जाओ , खुदा जिन्दगी में इतना
हँसाए आप को …
khuda buree najar se bachae
aap ko , chaand sitaaron se
sajae aap ko , gam kya hota
hai ye aap bhool hee jao ,
khuda jindagee mein itana
hansae aap ko ..

लोग कहते हैं समझो तो खामोशियाँ
भी बोलती हैं , मैं अरसे से ख़ामोश
वो बरसों से बेख़बर है
log kahate hain samajho
to khaamoshiyaan bhee
bolatee hain , main arase
se khaamosh vo barason
se bekhabar hai .

चाय ख़त्म होने तक रुकने का
वादा करो , हम आख़िरी चूंट
भी आख़िरी सांस तक पीते रहेंगे …
chaay khatm hone tak
rukane ka vaada karo ,
ham aakhiree choont
bhee aakhiree saans
tak peete rahenge ..

मुझे रिश्तो की लंबी कतारों से
मतलब नहीं कोई दिल से हो
मेरा तो एक शख्स भी काफी है
mujhe rishto kee lambee
kataaron se matalab nahin
koee dil se ho mera to ek
shakhs bhee kaaphee hai .

मुझसे धोखा दिया नहीं जाता
मै साथ दुनिया के चलू कैसे .
mujhase dhokha diya
nahin jaata mai saath
duniya ke chaloo kaise .

यों मेरी किस्मत मेरी तक़दीर हो गई ,
हमने उनकी याद मे इतने खत लिखे ,
की वह रद्दी बेचकर ही अमीर हो गई  .
yon meree kismat meree
taqadeer ho gaee , hamane
unakee yaad me itane khat
likhe , kee vah raddee
bechakar hee ameer ho gaee .,,,gulzar shayari

gulzar shayari

friendship in hindi shayari

एक रिश्ता बेनाम सा ना हासिल ना जुदा …
ना खोया ना मिला फिर भी करीब सा …
मोहब्बत तो नहीं पर मोहब्बत सा …
जरुरत भी नहीं पर जरुरी सा …
जाने क्या है और कैसा शायद रिश्ता है …

ek rishta benaam sa na haasil na juda …
na khoya na mila phir bhee kareeb sa …
mohabbat to nahin par mohabbat sa …
jarurat bhee nahin par jaruree sa …
jaane kya hai aur kaisa shaayad rishta hai …

छोड़ कर चले गए तुम ये कमाल थोड़ी है
खुद को मुझसे निकालो तो कमाल मानूं .
chhod kar chale gae tum ye
kamaal thodee hai khud ko
mujhase nikaalo to kamaal maanoon .

कभी तो मेरी खामोशी खुद भी समझ
लिया करो , कब तक मतलब पूछोगे
यूँ गैरों की तरह !
kabhee to meree khaamoshee
khud bhee samajh liya karo ,
kab tak matalab poochhoge
yoon gairon kee tarah ! ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari friendship in hindi 

गले न पड़ जाए सतरंगी भीग न जाएँ
बादल से सावन से बच कर जीते हैं
बारिश आने से पहले बारिश से बचने
की तैयारी जारी है !
gale na pad jae satarangee
bheeg na jaen baadal se
saavan se bach kar jeete
hain baarish aane se pahale
baarish se bachane kee
taiyaaree jaaree hai !

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ
दोस्त घबराता हूँ मैं जैसे हर शय
में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं .
aa ki tujh bin is tarah ai
dost ghabaraata hoon
main jaise har shay mein
kisee shay kee kamee
paata hoon main .

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर मैंने
दर्द की अपने नुमाईश न की जब
जहाँ जो मिला अपना लिया जो न
मिला उसकी ख्वाहिश न की ।
log jalate rahe meree muskaan
par mainne dard kee apane
numaeesh na kee jab jahaan
jo mila apana liya jo na mila
usakee khvaahish na kee .

कुछ लोग बिना रिश्ते के रिश्ते
निभाते हैं ज़िन्दगी में शायद वो
लोग ही दोस्त कहलाते हैं .
kuchh log bina rishte ke
rishte nibhaate hain
zindagee mein shaayad vo
log hee dost kahalaate hain ….gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

in hindi friendship shayari

दीपक बोलता नहीं उसका प्रकाश
परिचय देता है । ठीक उसी प्रकार
आप अपने बारे में कुछ न बोले ,
अच्छे कर्म करते रहे वही आपका
परिचय देगे ।
deepak bolata nahin usaka
prakaash parichay deta hai .
theek usee prakaar aap apane
baare mein kuchh na bole ,
achchhe karm karate rahe
vahee aapaka parichay dege .

मेरी फ़ितरत में नहीं उन परिंदों से
दोस्ती रखना , जिन्हें हर किसी के
साथ उड़ने का शौक हो .
meree fitarat mein nahin un
parindon se dostee rakhana ,
jinhen har kisee ke saath
udane ka shauk ho .

ये इश्क़ मोहब्बत की ,
रिवायत भी अजीब है ।।
पाया नही है जिसको ,
उसे खोना भी नही चाहते ।
ye ishq mohabbat kee ,
rivaayat bhee ajeeb hai .
paaya nahee hai jisako ,
use khona bhee nahee chaahate .

तुम जो कह दो , आज की रात
चाँद डुबेगा नही को रोक लो
रात की बात है
और जिंदगी बाकी तो नहीं ..
tum jo kah do , aaj kee
raat chaand dubega nahee
ko rok lo raat kee baat hai
aur kld jindagee baakee to nahin .

साँस तेज़ है बुखार तो नहीं नब्ज़
देखना ही प्यार तो नहीं प्यार में
अजीब ये रिवाज़ है रोग भी वही है
जो इलाज़ है बार – बार मरने की है
आरजू एक में और एक तू ..

saans tez hai bukhaar to
nahin nabz dekhana hee
pyaar to nahin pyaar mein
ajeeb ye rivaaz hai rog bhee
vahee hai jo ilaaz hai baar – baar
marane kee hai aarajoo ek  me aur ek too ..

gulzar shayari

gulzar shayari

 

gulzar in friendship shayari

हमने सपना देखा है ,
कोई अपना देखा है
जब रात का चूँघट उतरेगा
और दिन की डोली गुज़रेगी
तब सपना पुरा होगा ..
थोड़ा है थोड़े की ज़रूरत है ..
जिंदगी फिर भी यहाँ खुबसूरत है
hamane sapana dekha hai ,
koee apana dekha hai jab
raat ka choonghat utarega
aur din kee dolee guzaregee
tab sapana pura hoga ..
thoda hai thode kee zaroorat
hai .. jindagee phir bhee
yahaan khubasoorat hai .

अगर दोस्ती में कोई गलती हो
जाये उसे जरूर सुधार लेना ,
मगर अपनी दोस्ती को कभी
खोने नही देना , और अगर
दोस्त हो सबसे ज्यादा प्यारा ,
तो उसे चैन की नींद सोने नही देना .. !

agar dostee mein koee
galatee ho jaaye use jaroor
sudhaar lena , magar apanee
dostee ko kabhee khone
nahee dena , aur agar dost
ho sabase jyaada pyaara ,
to use chain kee neend
sone nahee dena .. !

साँस तेज़ है बुखार तो नहीं नब्ज़
देखना ही प्यार तो नहीं प्यार में
अजीब ये रिवाज़ है रोग भी वही है
जो इलाज़ है बार – बार मरने की है
आरजू एक में और एक तू ..

saans tez hai bukhaar to
nahin nabz dekhana hee
pyaar to nahin pyaar mein
ajeeb ye rivaaz hai rog bhee
vahee hai jo ilaaz hai baar – baar
marane kee hai aarajoo ek
mein aur ek too ..

कुछ लोग बिना किसी रिश्ते
के रिश्ते निभाते है …
शायद वो लोग ही “ दोस्त ”
कहलाते हैं .
kuchh log bina kisee rishte
ke rishte nibhaate hai …
shaayad vo log hee “ dost ”
kahalaate hain .

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते
थे पूरा मोहल्ला , जब से डिग्रियाँ
समझ में आईं पाँव जलने लगे .
bachapan mein bharee
dupaharee mein naap aate
the poora mohalla , jab se
digriyaan samajh mein aaeen
paanv jalane lage

दोस्ती भी क्या गज़ब की चीज़ होती है ,
मगर … ये भी बहुत कम लोगों को
नसीब होती है , जो पकड़ लेते है
ज़िन्दगी में दामन इसका ,
समझ लो के जन्नत उनके
बिलकुल करीब होती है |

dostee bhee kya gazab
kee cheez hotee hai ,
magar … ye bhee bahut
kam logon ko naseeb
hotee hai , jo pakad lete
hai zindagee mein daaman
isaka , samajh lo ke jannat
unake bilakul kareeb hotee hai …gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

friendship in hindi shayari

बेवजह है .. तभी तो दोस्ती है ..
वजह होती तो .. ..साज़िश होती .. !
bevajah hai .. tabhee to
dostee hai .. vajah hotee
to .. saazish hotee .

खूबसूरत है तू जन्म लेती हुई
खूबसूरत है तू जन्म देती हुई छू
के गुज़री हवा के बहाने कभी
और शबनम में उतरी नहाने कभी
एक मासूम सी गुदगुदी जिंदगी.

khoobasoorat hai too janm
letee huee khoobasoorat hai
too janm detee huee chhoo
ke guzaree hava ke bahaane
kabhee aur shabanam mein
utaree nahaane kabhee ek
maasoom see gudagudee
jindagee .

मेरी खमोशी में सन्नाटा भी है

शोर भी है , तूने देखा ही नहीं ….
आँखों में कुछ और भी है .

meree khamoshee mein
sannaata bhee hai shor
bhee hai , toone dekha hee
nahin …. aankhon mein
kuchh aur bhee hai .

तुम बनके दोस्त ऐसे आए जिंदगी मे ,
के हम ये जमाना ही भूल गये ,
तुम्हे याद आए ना आए हमारी कमी ,
पर हम तो तुम्हे भूलना ही भूल गये ।
tum banake dost aise aae
jindagee me , ke ham ye
jamaana hee bhool gaye ,
tumhe yaad aae na aae
hamaaree kamee , par
ham to tumhe bhoolana
hee bhool gaye .

वक़्त चलता रहा …
जिंदगी सिमटती गई ..
दोस्त बढ़ते गए …
दोस्ती घटती गई .
vaqt chalata raha …
jindagee simatatee gaee ..
dost badhate gae …
dostee ghatatee gaee .

बहुत नज़दीक होके भी वो
इतना दूर है मुझसे इशारा हो
नहीं सकता , पुकारा जा
नहीं सकता !!
bahut nazadeek hoke
bhee vo itana door hai
mujhase ishaara ho nahin
sakata , pukaara ja nahin
sakata !! …..gulzar shayari

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *