0

Gulzar Shayari for Dosti | dosti shayari in hindi 2020

83 / 100

gulzar shayari for dosti ,gulzar shayari motivational , gulzar shayari for love ,gulzar shayari for zindagi , gulzar shayari life ,gulzar shayari in hindi…..

gulzar shayari for dosti

gulzar shayari

gulzar shayari

चलो शुरु करे नयी दोस्ती ए जिंदगी
मिटाने को गरीबी खुदा से करे बंदगी
अमीरी – गरीबी तो है अपने विचारों
की गंदकी बस कुछ पलो की ये
जिंदगानी है चंद की कौन रहेगा
अमीर कौन रहेगा गरीब जब हम
हो जायेंगे एक दुसरे के करीब कहीं
खो जाएंगी अमीरी उसकी ज़ब हो
जाएंगी दो गरीबो की दोस्ती .
chalo shuru kare nayee
dostee e jindagee mitaane
ko gareebee khuda se kare
bandagee ameeree – gareebee
to hai apane vichaaron kee
gandakee bas kuchh palo kee
ye jindagaanee hai chand kee
kaun rahega ameer kaun rahega
gareeb jab ham ho jaayenge ek
dusare ke kareeb kaheen kho
jaengee ameeree usakee zab
ho jaengee do gareebo kee dostee .

वो छोड़ के गए हमें ,
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी ,
खुदा ने कहा इसमा उनका कोई
कसूर नहीं , ये कहानी तो हमने
लिखी ही अधूरी थी ….
vo chhod ke gae hamen ,
na jaane unakee kya majabooree
thee , khuda ne kaha isama
unaka koee kasoor nahin ,
ye kahaanee to hamane likhee
hee adhooree thee ….

दोस्तों की दोस्ती में कोई Rules नहीं होता ,
और ये सीखने के लिए , कोई School नहीं होता …
doston kee dostee mein koee
rulais nahin hota , aur ye
seekhane ke lie , koee schhool
nahin hota …

ये दोस्ती का गणित है साहब यहाँ 2 में से ।
गया तो कुछ नहीं बचता
ye dostee ka ganit hai saahab
yahaan 2 mein se . gaya to
kuchh nahin bachata .

kamajoriyaan mat khoj mujhame
mere dost ek too bhee shaamil
hai meree kamajoriyon mein .

gulzar shayari

gulzar shayari

dosti shayari in hindi

अजीब सिलसिला था ….
वो दोस्ती का साहिब ….
जो कुछ दूर चला और ….
इश्क में बदल गया …. ..
ajeeb silasila tha ….
vo dostee ka saahib ….
jo kuchh door chala aur ….
ishk mein badal gaya …. ..

मैं दिया है मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं ,
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं
main diya hai meree dushmanee
to sirph andhere se hain , hava to
bevajah hee mere khilaaph hain .

वो जिन्दा थी , मैं जब सोया हुआ
था वो मेरे जागते ही मर गयी है
यही वस्लत है ख्वाबो की वो कितनी
बार आयेगी मैं उसे कितनी बार मारूंगा !!
vo jinda thee , main jab soya
hua tha vo mere jaagate hee
mar gayee hai yahee vaslat hai
khvaabo kee vo kitanee baar
aayegee main use kitanee baar
maaroonga !!

एक बार तो यूँ होगा ,
थोड़ा सा सुकून होगा ..
ना दिल में कसक होगी ,
ना सर में जूनून होगा …
ek baar to yoon hoga ,
thoda sa sukoon hoga ..
na dil mein kasak hogee ,
na sar mein joonoon hoga …

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari dosti & zindagi

खुदा ने मुझे बहुत वफ़ादार दोस्तों से
नवाज़ा है याद मै ना करू तो कोशिश
वो भी नहीं करते
khuda ne mujhe bahut vafaadaar
doston se navaaza hai yaad
mai na karoo to koshish vo
bhee nahin karate .

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं ।
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में !
गुलज़ार रेख़्ता जाने किस का ज़िक्र है
इस अफ़्साने में ! दर्द मज़े लेता है
जो दोहराने .

shaam ke sae baalishton se
naape hain . chaand ne kitanee
der laga dee aane mein !
gulazaar rekhta jaane kis ka
zikr hai is afsaane mein !
dard maze leta hai jo doharaane .

चलो आज फिर मुस्कुराया जाये बिन
माचिस के कुछ लोगों को जलाया जाए .
chalo aaj phir muskuraaya
jaaye bin maachis ke kuchh
logon ko jalaaya jae .

मुझे खबर भी नहीं रंगों की हम तो
बस तेरे होठों की लाली जानते हैं
गुलाब को क्या खबर की खुशबू क्या है
यह तो बस माली जानते हैं .. !
mujhe khabar bhee nahin
rangon kee ham to bas tere
hothon kee laalee jaanate hain
gulaab ko kya khabar kee
khushaboo kya hai yah to
bas maalee jaanate hain .. !

आपकी दोस्ती हमारी सुरूर का साज है
आप जेसे दोस्त पे हमें ,, नाज़ है
चाहे कुछ भी हो जाए दोस्ती वैसे
ही रहेगी जैसे आज है …
aapakee dostee hamaaree
suroor ka saaj hai aap jese
dost pe hamen ,, naaz hai
chaahe kuchh bhee ho jae
dostee vaise hee rahegee
jaise aaj hai …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi

इम में अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया
Inme tumhaaree raahon mein
ruk kar apana hee intizaar kiya

दर्द की अपनी भी एक अदा है ..
वो भी सहने वालों पर फ़िदा है ..
dard kee apanee bhee ek
ada hai .. vo bhee sahane
vaalon par fida hai ..

सोचता हूँ दोस्तों पर मुक़दमा कर दूँ
इसी बहाने तारीख़ों पर मुलाकात तो होगी ।
sochata hoon doston par
muqadama kar doon isee
bahaane taareekhon par
mulaakaat to hogee .

जिसे दिल की कलम ओर
मोहब्बत की इंक कहते है ।
जिसे लमहों की किताब ओर
यादों का कवर कहते है ।
यही वो सब्जेक्ट है जिसे
friendship कहते है ।
jise dil kee kalam or
mohabbat kee ink kahate
hai . jise lamahon kee
kitaab or yaadon ka kavar
kahate hai . yahee vo
sabjekt hai jise friaindship
kahate hai .

नादान से भी दोस्ती कीजिए
मुसीबत के वक़्त , कोई भी
समझदार साथ नही देता
naadaan se bhee dostee
keejie museebat ke vaqt ,
koee bhee samajhadaar
saath nahee deta .

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari dosti in hindi

बड़ा मीठा नशा था उसकी याद का .
वक्त गुजरता गया और हम आदी होते गए …..
bada meetha nasha tha usakee
yaad ka . vakt gujarata gaya aur
ham aadee hote gae …..

हर रोज गिर कर भी मुकम्मल खड़े है
ऐ ज़िन्दगी देख , मेरे होंसले तुझसे भी बड़े है ।
har roj gir kar bhee mukammal
khade hai ai zindagee dekh ,
mere honsale tujhase bhee bade hai .

मैं यादों का किस्सा खोलू तो कुछ
दोस्त बहुत याद आते है मैं गुज़रे
पल को सोचु तो कुछ दोस्त बहुत
याद आते है अब जाने कौन सी नगरी
में है , आबाद है जाकर मुद्दत से मैं देर रात
तक जागू तो कुछ दोस्त बहुत याद आते है
main yaadon ka kissa kholoo
to kuchh dost bahut yaad aate
hai main guzare pal ko sochu
to kuchh dost bahut yaad aate
hai ab jaane kaun see nagaree
mein hai , aabaad hai jaakar
muddat se main der raat tak
jaagoo to kuchh dost bahut
yaad aate hai .

थोड़ी थोड़ी ‘ गुफ्तगू करते रहिये
सभी दोस्तों से …. ‘ जाले लग जाते है
अक्सर बंद मकानों में .
thodee thodee guphtagoo
karate rahiye sabhee doston se .
jaale lag jaate hai aksar band
makaanon mein .

दोस्ती में सच्चाई और दोस्ती में अच्छाई
कभी कम नहीं होनी चाहिए , दिल तो
प्यार करने वाले Lovers तोड़ते हैं ,
सच्चे दोस्त तो दिल को जोड़ते .
dostee mein sachchaee
aur dostee mein achchhaee
kabhee kam nahin honee
chaahie , dil to pyaar karane
vaale lovairs todate hain ,
sachche dost to dil ko jodate .

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shahab ki shayari

दोस्तों के लिए इस तरह कर तुम
भूल भी जाओ तो याद में करों खुदा
से बस इतनी गुजारिश है मेरी रन
यादोहरे पाने का .
doston ke lie is tarah kar
tum bhool bhee jao to yaad
mein karon khuda se bas
itanee gujaarish hai meree
ran yaadohare paane ka .

तेरी कमी भी है ..
तेरा साथ भी है …
तू दूर भी है तू पास भी है .
खुदा ने नवाजा तेरी दोस्ती
मुझे शिकायत भी है और नाज़
teree kamee bhee hai ..
tera saath bhee hai … ..
too door bhee hai too
paas bhee hai . khuda
ne navaaja teree dostee
mujhe shikaayat bhee
hai aur naaz

कुछ रिश्तो मे मुनाफा नही होता
पर जिन्दगी को अमीर बना देते है
kuchh rishto me munaapha
nahee hota par jindagee ko
ameer bana dete hai .

लड़कियों से क्या दोस्ती करना ,
जो पल भर मे छोड़ जाती हैं ,
दोस्ती करनी है तो हम जैसे
लड़को से करो , जो मरने के
बाद भी कंधे पे ले जाते है ।
ladakiyon se kya dostee
karana , jo pal bhar me
chhod jaatee hain , dostee
karanee hai to ham jaise
ladako se karo , jo marane
ke baad bhee kandhe pe
le jaate hai .

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari dosti in gulzar

बेवजह है ..
तभी तो दोस्ती है ..
वजह होती तो ..
साज़िश होती .. !!
bevajah hai ..
tabhee to dostee hai ..
vajah hotee to ..
saazish hotee .. !!

कुछ लोग बिना किसी
रिश्ते के रिश्ते निभाते है …
शायद वो लोग ही “ दोस्त ” कहलाते हैं …..
kuchh log bina kisee
rishte ke rishte nibhaate hai …
shaayad vo log hee “ dost ”
kahalaate hain …..

वक़्त चलता रहा …
जिंदगी सिमटती गई ..
दोस्त बढ़ते गए …
दोस्ती घटती गई .
vaqt chalata raha …
jindagee simatatee gaee ..
dost badhate gae …
dostee ghatatee gaee .

दोस्तों के नाम का एक ख़त जेब
में रख कर क्या चला .. ! क़रीब
से गुज़रने वाले पूछते इत्र का नाम क्या है … !!
doston ke naam ka ek khat
jeb mein rakh kar kya chala .. !
qareeb se guzarane vaale
poochhate itr ka naam kya hai … !!

gulzar shayari

gulzar shayari

dosti gulzar shayari

आ कि तुझा बिन इस तरह ऐ
दोस्त घबराता हूँ मैं जैसे हर शय
में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं .
aa ki tujha bin is tarah ai
dost ghabaraata hoon main
jaise har shay mein kisee
shay kee kamee paata hoon main .

दोस्ती भी क्या गज़ब की चीज़ होती है ,
मगर … ये भी बहुत कम लोगों को
नसीब होती है , जो पकड़ लेते है
ज़िन्दगी में दामन इसका , समझ
लो के जन्नत उनके बिलकुल करीब होती है |
dostee bhee kya gazab kee
cheez hotee hai , magar …
ye bhee bahut kam logon
ko naseeb hotee hai ,
jo pakad lete hai zindagee
mein daaman isaka ,
samajh lo ke jannat unake
bilakul kareeb hotee hai |

तमन्नाओ की महफिल तो हर
कोई सजाता है , ए दोस्तों लेकिन
पूरी उसकी ही होती है जो तकदीर
लेकर आता है .
tamannao kee mahaphil
to har koee sajaata hai ,
e doston lekin pooree
usakee hee hotee hai jo
takadeer lekar aata hai .

भरी महफ़िल मे दोस्ती का जिक्र
हुआ । हमने तो सिर्फ आपकी
ओर देखा और लोग वाह – वाह
कहने लगे …
bharee mahafil me dostee
ka jikr hua . hamane to
sirph aapakee or dekha aur
log vaah – vaah kahane lage …

दोस्ती का रिश्ता दो अंजानो को जोड़ देता है
हर कदम पर जिन्दगी को नया मोड़ देता है
एक सच्चा दोस्त साथ देता है तब भी जब
अपना साया भी साथ छोड़ देता है
dostee ka rishta do anjaano
ko jod deta hai har kadam par
jindagee ko naya mod deta hai
ek sachcha dost saath deta hai
tab bhee jab apana saaya bhee
saath chhod deta hai

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi

कौन कहता है कि दोस्ती – यारी बर्बाद
करती है कोई निभाने वाला हो तो
दुनिया याद करती है
kaun kahata hai ki dostee – yaaree
barbaad karatee hai koee nibhaane
vaala ho to duniya yaad karatee hai

इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है ,
इश्क मेरी रूह , तो दोस्ती मेरा ईमान है ,
इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी
जिंदगी , पर दोस्ती पर , मेरा इश्क
भी कुर्बान है
ishk or dostee mere do jahaan
hai , ishk meree rooh , to dostee
mera eemaan hai , ishk par to
phida karadu apanee puree
jindagee , par dostee par ,
mera ishk bhee kurbaan hai

कभी शिद्दत की गर्मी ,
कभी बारिश की फुहारें ..
ये सितम्बर और मोहब्बत ,
समझ से परे हैं हमारे … !!
kabhee shiddat kee garmee ,
kabhee baarish kee phuhaaren ..
ye sitambar aur mohabbat ,
samajh se pare hain hamaare … !!

दौलत नहीं , शोहरत नहीं ,
नवाह वाह चाहिए , कैसे हो .. ?
बस दो लफ्जों की परवाह चाहिए !
daulat nahin , shoharat nahin ,
navaah vaah chaahie , kaise ho .. ?
bas do laphjon kee paravaah
chaahie !

कया फर्क है दोसती ओर मोहब्बत.में .
रहते दोनो दिल में हैं लेकिन फरक बस
इतना है बरसों बाद मिलने पर मोहब्बत
नज़र चुरा लेती है और दोसती GALE
से लगा लेती है .
kaya phark hai dosatee or
mohabbat.mein . rahate dono
dil mein hain lekin pharak bas
itana hai barason baad milane
par mohabbat nazar chura letee
hai aur dosatee galai se laga
letee hai .

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *