0

Gulzar Shayari for Success | Gulzar Shayari in hindi 2020

80 / 100

best gulzar shayari in success , gulzar shayrai in hindi , shayari in motivation ,gulzar shayari in love , gulzar shayari in dosti …

gulzar shayari

gulzar shayari

Gulzar Shayari 

चलो आज फिर मुस्कुराया जाये बिन
माचिस के कुछ लोगों को जलाया जाए
chalo aaj phir muskuraaya
jae bin maachis ke kuchh
logon ko jalaaya jae .

तु कितनी भी खुबसूरत क्यों न हो
ए ज़िन्दगी खुशमिजाज दोस्तों के
बगैर अच्छी ही नहीं लगती .
tu kitanee bhee khubasoorat
kyon na ho e zindagee
khushamijaaj doston ke
bagair achchhee hee nahin
lagatee .

एक पल के लिए हीसही ,
किसी और के चेहरे की मुस्कान बनो .
ek pal ke lie heesahee ,
kisee aur ke chehare kee
muskaan bano .

मेरे दिल में एक धड़कन तेरी हैं ,
उस धड़कन की कसम तू ज़िन्दगी
मेरी है , मेरी तो हर सांस में एक
सांस तेरी हैं , जो कभी सांस जो
रुक जाए तो मौत मेरी है .
mere dil mein ek dhadakan
teree hain , us dhadakan kee
kasam too zindagee meree hai ,
meree to har saans mein ek
saans teree hain , jo kabhee
saans jo ruk jae to maut meree hai .

gulzar shayari

gulzar shayari

Gulzar Shayari in success

मिलता तो बहुत कुछ है जिंदगी में
बस हम गिनती उसी की करते हैं
जो हासिल ना हो सका .
milata to bahut kuchh hai
jindagee mein bas ham
ginatee usee kee karate
hain jo haasil na ho saka .

मैं मगन था सब्जी नुस्ख निकालने में …
में कोई खुदा से सूखी रोटी का
शुक्र मना रहा था
main magan tha sabjee nuskh
nikaalane mein … mein koee
khuda se sookhee rotee ka
shukr mana raha tha .

व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित
एक प्राणी है , वह जो सोचता है
वही बन जाता है ..
vyakti apane vichaaron se
nirmit ek praanee hai ,
vah jo sochata hai vahee
ban jaata hai .

खैरियत से हूँ मैं , मेरे शहर में ,
तुम अपने शहर में अपनी हिफाजत रखना ,
किसी का हाथ छूना नहीं , .पर..
किसी का साथ छोड़ना भी नहीं .
khairiyat se hoon main ,
mere shahar mein ,
tum apane shahar mein
apanee hiphaajat rakhana ,
kisee ka haath chhoona nahin , .
par..kisee ka saath chhodana
bhee nahin .

ज़िन्दगी में कुछ लोग ऐसे भी
होते हैं जो वादे नहीं करते लेकिन
निभा बोहत कुछ जाते हैं .
zindagee mein kuchh log
aise bhee hote hain jo
vaade nahin karate lekin
nibha bohat kuchh jaate hain …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi 

कुछ तो चाहत रही होगी इन बारिश
की बूंदों की भी . वरना कौन गिरता है
इस जमीन पर आसमान तक पहुँचने के बाद .
kuchh to chaahat rahee hogee
in baarish kee boondon kee
bhee . varana kaun girata hai
is jameen par aasamaan tak
pahunchane ke baad .

एक ना एक दिन हासिल कर ही
लूंगा मंजिल .. ” ठोकरे ” ज़हर तो
नहीं जो खाकर मर जाऊंगा . ”
ek na ek din haasil kar
hee loonga manjil .. ”
thokare ” zahar to nahin
jo khaakar mar jaoonga . “

देर से बनो पर ज़रूर कुछ बनो ,
क्योंकि लोग वक्त के साथ खैरियत
नहीं हैसियत पूछते हैं .. !
der se bano par zaroor kuchh
bano , kyonki log vakt ke saath
khairiyat nahin haisiyat
poochhate hain .. !

जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला है
जो रहा है उसके पाँव में बिना घिसे
चमक नही सकता , जो जलेगा उसी
दिये से तो उजाला है ।
jo muskura raha hai use dard
ne paala hai jo raha hai usake
paanv mein bina ghise chamak
nahee sakata , jo jalega usee
Godiye se to ujaala hai .

रात को फिर बादल ने आकर गीले
गीले पंजों से जब दरवाज़े पर दस्तक दी ।
झट से उठ के बैठ गया मैं बिस्तर में
अक्सर नीचे आ कर ये कच्ची बस्ती में ,
लोगों पर गुर्राता है लोग बेचारे डाम्बर लीप
के दीवारों पर बंद कर लेते हैं झिरयाँ ताकि
झाँक ना पाये घर के अन्दर लेकिन ,
फिर भी गुर्राता , चिंघाड़ता बादल
अक्सर ऐसे लूट के ले जाता है बस्ती ,
जैसे ठाकुर का कोई गुन्डा , बदमस्ती
करता निकले इस बस्ती से !!
raat ko phir baadal ne aakar
geele geele panjon se jab
daravaaze par dastak dee .
jhat se uth ke baith gaya main
bistar mein aksar neeche aa
kar ye kachchee bastee mein ,
logon par gurraata hai log
bechaare daambar leep ke
deevaaron par band kar lete
hain jhirayaan taaki jhaank na
paaye ghar ke andar lekin ,
phir bhee gurraata , chinghaadata
baadal aksar aise loot ke le
jaata hai bastee , jaise thaakur
ka koee gunda , badamastee
karata nikale is bastee se !!

gulzar shayari

gulzar shayari

Success in gulzar shayari 

गज़ब सितम है ये गुफ्तगू – ए – मोहब्बत भी
कभी बातें बेइंतहा तो कभी खामोशियाँ बेइंतहा .
gazab sitam hai ye guphtagoo – e – mohabbat bhee kabhee baaten
beintaha to kabhee khaamoshiyaan
Beintehaa .

गीली लकड़ी सा इश्क़ है जो उसने
सुलगाया है न पूरा बुझ पाया है न
पूरा जल पाया है …
geelee lakadee sa ishq hai
jo usane sulagaaya hai na
poora bujh paaya hai na
poora jal paaya hai …

संघर्ष में आदमी अकेला होता है ,
सफलता में दुनिया समसके साथ होती है ,
जिस – जिस पर ये जग हँसा है ,
उसीने इतिहास रचा है …
sangharsh mein aadamee
akela hota hai , saphalata
mein duniya samasake saath
hotee hai , jis – jis par ye jag
hansa hai , useene itihaas
racha hai …

कहते हैं के हो जाता है संगत का असर .
पर काँटों को आज तक नहीं आया ,
महकने का सलीका .
kahate hain ke ho jaata hai
sangat ka asar .par kaanton
ko aaj tak nahin aaya ,
mahakane ka saleeka .

तेरी महफिल से उठे तो किसी को
खबर न थी तेरा मुड मुड कर देखना
हमें बदनाम कर गया ।
teree mahaphil se uthe to
kisee ko khabar na thee tera
mud mud kar dekhana hamen
badanaam kar gaya .

gulzar shayari

gulzar shayari

success sahayari in hindi 

हल्के हल्के बढ़ रही हैं चेहरे की लकीरें ,
लग रहा है जैसे नादानियों और तजुर्गों
का बँटवारा हो रहा है ..
halke halke badh rahee hain
chehare kee lakeeren , lag raha
hai jaise naadaaniyon aur tajurgon
ka bantavaara ho raha hai ..

आपकी बात खामोशी से मान लेना ये
भी अन्दाज़ था मेरी नाराज़गी का .
aapakee baat khaamoshee
se maan lena ye bhee andaaz
tha meree naaraazagee ka .

एक ना एक दिन हासिल कर ही लूंगा
मंज़िल .. ठोकरें जहर तो नहीं जो
खाकर मर जाऊंगा !
ek na ek din haasil kar hee
loonga manzil .. thokaren
jahar to nahin jo khaakar
mar jaoonga !

होने लगा है हिसाब नफ़े और नुक़सान
का मासूम सी मोहब्बत व्यापार हो गई हैं !
hone laga hai hisaab nafe aur
nuqasaan ka maasoom see
mohabbat vyaapaar ho gaee hain !

जब गिला सिकवा अपनो से ही तो
ख़ामोशी ही भली अब हर बात पे
जंग हो ये जरूरी तो नही ।
jab gila sikava apano se hee
to khaamoshee hee bhalee ab
har baat pe jang ho ye jarooree
to nahee .

अपनी टाँगो का इस्तेमाल आगे
बढ़ने के लिए करो .. दुसरों के
मामले में अड़ाने के लिए नहीं ..
apanee taango ka istemaal
aage badhane ke lie karo ..
dusaron ke maamale mein
adaane ke lie nahin .. gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

Shayari success in hindi 

नज़रे मिली और नज़रे झुकी ,
इतनी सी बात और हम बर्बाद । ”
nazare milee aur nazare jhukee ,
itanee see baat aur ham barbaad .

काटों पर भी दोष कैसे डालें जनाब पैर
तो हमने रखा वो अपनी जगह पर थे .
kaaton par bhee dosh kaise
daalen janaab pair to hamane
rakha vo apanee jagah par the .

एक अजीब सा रिश्ता है
मेरे और ख्वाहिशों के दरमियाँ !!
वो मुझे जीने नहीं देतीं और
मैं उन्हें मरने नही देता !!!
ek ajeeb sa rishta hai mere aur
khvaahishon ke daramiyaan !!
vo mujhe jeene nahin deteen
aur main unhen marane nahee deta !!!

किसी की आदत हो जाना मोहब्बत
हो जाने से भी ख़तरनाक हैं !

kisee kee aadat ho jaana
mohabbat ho jaane se bhee
khataranaak hain !

मैं थक गया था परवाह करते करते
जबसे बेपरवाह हूं आराम सा है .
main thak gaya tha paravaah
karate karate jabase beparavaah
hoon aaraam sa hai …. gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

Gulzar Success Shayari

कुछ इस तरह खयाल तेरा जल उठा है
जैसे दिया सलाई जाली हो अंधेरे में
अब फूंक भी दो वरना उंगली जलाएगा .
kuchh is tarah khayaal tera jal
utha hai jaise diya salaee jaalee
ho andhere mein ab phoonk bhee
do varana ungalee jalaega .

नहीं बदल सकते है हम खुद को
औरों के हिसाब से एक लिबास हमें
भी दिया है खुदा ने अपने हिसाब से .
nahin badal sakate hai ham
khud ko auron ke hisaab se ek
libaas hamen bhee diya hai
khuda ne apane hisaab se

कभी किसी को छला नहीं ,
इसीलिए तो मैं चला नहीं .
kabhee kisee ko chhala nahin ,
iseelie to main chala nahin .

एक बार तो यूँ होगा ,
थोड़ा सा सुकून होगा .
ना दिल में कसक होगी ,
ना सर में जूनून होगा …
ek baar to yoon hoga ,
thoda sa sukoon hoga .
na dil mein kasak hogee ,
na sar mein joonoon hoga …

जिन्दगी ये तेरी खरोंचे है मुझ पर
या तू मुझे तराशने की कोशिश में है .
jindagee ye teree kharonche
hai mujh par ya too mujhe
taraashane kee koshish mein hai .

मंजिलें भी जिद्दी हैं ,
रास्ते भी जिद्दी हैं ,
देखतें हैं कल क्या हो ,
हौंसले भी जिद्दी है ।
manjilen bhee jiddee hain ,
raaste bhee jiddee hain ,
dekhaten hain kal kya ho ,
haunsale bhee jiddee hai .

वो बुलंदी किस काम की जनाब ?
इंसान चढे और इंसानियत उतर जायें ।
vo bulandee kis kaam kee
janaab ? insaan chadhe aur
insaaniyat utar jaayen .

gulzar shayari

gulzar shayari

success shayari in hindi

मुझे चाहिए कोई बिल्कुल मेरे ही जैसा
किसी बेहतर से मेरी बनती ही नहीं है .
mujhe chaahie koee bilkul mere
hee jaisa kisee behatar se meree
banatee hee nahin hai .

दो अकेले चल रहे हैं रात अकेली ,
चाँद अकेला हमसफ़र दो अजनबी
से रात अकेली चाँद अकेला आवारा
सफ़र जाये कौन कहाँ वीराँ हे ज़मीं
वीरों आसमाँ दो किनारे चल रहे हैं
रात अकेली चाँद अकेला आवाज़ों में हैं
सन्नाटो की धुन नज़रों की जुबाँ ख़ामोशी हे
सुन दो इशारे चल रहे हैं रात अकेली
चाँद अकेला .

do akele chal rahe hain raat akelee ,
chaand akela hamasafar do
ajanabee se raat akelee chaand
akela aavaara safar jaaye kaun
kahaan veeraan he zameen veeron aasamaan do kinaare chal rahe hain
raat akelee chaand akela aavaazon
mein hain sannaato kee dhun
nazaron kee jubaan khaamoshee
he sun do ishaare chal rahe hai .

raat akeli chand akela .

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *