0

Gulzar Shayari in Bewafai | Bewafai shayari in hindi 2020

81 / 100

best gulzar shayari in bewafai , gulzar shayrai in hindi , shayari in motivation ,gulzar shayari in love , gulzar shayari in dosti …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in bewafai

सर से लेकर पैर तक पूरा बदन
काँप रहा था जब खबर मिली तेरे
साथ राते कोई दूसरा काट रहा था
sar se lekar pair tak poora
badan kaanp raha tha jab
khabar milee tere saath
raate koee doosara kaat
raha tha .

बैठ कर खामोश अब हम तुम्हें आजमाएंगे ,
देखते है अब हम तुम्हें कब याद आएंगे ।
baith kar khaamosh ab ham
tumhen aajamaenge , dekhate hai
ab ham tumhen kab yaad aaenge .

क्या मालूम था के इश्क़ करके दिल
तोड़ जाएगी , दिल मे प्यार जगा के
मूह मोड़ जाएगी , ओ बेवफा तू जब
भी किसी से दिल लगाएगी , तो कभी
भी चैन की साँसे नही ले पाएगी .
kya maaloom tha ke ishq
karake dil tod jaegee , dil
me pyaar jaga ke mooh
mod jaegee , o bevapha
too jab bhee kisee se dil
lagaegee , to kabhee bhee
chain kee saanse nahee le paegee .

कितनी आसानी से कह दिया तुमन
की बस अब तुम मुझे भूल जाओ
साफ साफ लफ्जो में कह दिया होत
कि बहुत जी लिए अब तुम मर जा .
kitanee aasaanee se kah diya
tuman kee bas ab tum mujhe
bhool jao saaph saaph laphjo
mein kah diya hot ki bahut jee
lie ab tum mar ja .

ज़िक्र बेवफाओं का था रात
सर – ए – महफ़िल में सिर मेरा भी
झुका जब नाम मेरे यार का आया .
zikr bevaphaon ka tha raat
sar – e – mahafil mein sir
mera bhee jhuka jab naam
mere yaar ka aaya …gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari in hindi

आज बहुत दुख हो रहा है ..
हाल – ऐ – जिंदगी पर .. काश मैंने
भी हद में रह कर .. मोहब्बत की होती ….
aaj bahut dukh ho raha hai ..
haal – ai – jindagee par ..
kaash mainne bhee had
mein rah kar .. mohabbat
kee hotee ….

जरूरी तो नहीं हर चाहत का
मतलब इश्क़ हो , कभी कभी
कुछ अनजान रिश्तों के लिए
भी दिल बेचैन हो जाता है ।
jarooree to nahin har chaahat
ka matalab ishq ho , kabhee
kabhee kuchh anajaan rishton
ke lie bhee dil bechain ho jaata hai .

मन करता है जो दर्द है दिल में बयां
कर दूँ हर दर्द तुझसे अब ये दर्द छुपाए
नहीं जाते लेकिन नहीं कह सकता कुछ
तुझसे क्योंकि दिलो के दर्द दिखाए नहीं जाते .
man karata hai jo dard hai
dil mein bayaan kar doon
har dard tujhase ab ye dard
chhupae nahin jaate lekin
nahin kah sakata kuchh
tujhase kyonki dilo ke dard
dikhae nahin jaate .

न चाहत के अंदाज अलग ,
न दिल के , जजबात अलग ,
थी , सारी बात लकीरों की ,
तेरे हाथ अलग , मेरे हाथ अलग ।
na chaahat ke andaaj alag ,
na dil ke , jajabaat alag ,
thee , saaree baat lakeeron kee ,
tere haath alag , mere haath alag .

कितना अधूरा लगता है शिब जब ।
बादल हो पर बारिश ना हो जब जिंदगी
हो पर प्यार ना हो जब आँखे हो पर
ख्वाब ना हो और जब कोई अपना हो
पर साथ ना हो .
kitana adhoora lagata hai shib jab .
baadal ho par baarish na ho jab
jindagee ho par pyaar na ho jab
aankhe ho par khvaab na ho aur
jab koee apana ho par saath na ho …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

bewafai shayari in hindi 

करे तो करे क्या ….
कहे तो कहे क्या …..
अब तुझे बेवफा भी ना कहु ,
तो फ़िर कहु क्या …. !!
kare to kare kya ….
kahe to kahe kya …..
ab tujhe bevapha bhee
na kahu , to fir kahu kya …. !!

ज़रा पाने की चाहत में बहुरूकुडछूटा
जाता है न जाने सबर का धागा कहां
पर टूट जाता है किसे हमराह कहते
हो यहाँ तो अपना साया भी कहीं पर
साथ रहता है कहीं पर छूट जाता है …. !!

आदमी अच्छा होगा ,
वो भी मेरी ही तरह
शहर में तन्हा होगा .
us ke dushman hain bahut ,
aadamee achchha hoga ,
vo bhee meree hee tarah
shahar mein tanha hoga .

हम ने कब मांगा है ।
तुम से अपनी वफाओं का सिला ,
बस दर्द देते रहा करो मोहब्बत
बढ़ती जाएगी ।
ham ne kab maanga hai .
tum se apanee vaphaon
ka sila , bas dard dete
raha karo mohabbat
badhatee jaegee .

नवो सपना देखो जो टूट जाये ;
नवो हाथ थामो जो छूट जाये ;
मत आने दो किसी को करीब इतना ;
कि उसके दूर जाने से इंसान खुद
से रूठ जाये ।
navo sapana dekho jo toot
jaaye ; navo haath thaamo jo
chhoot jaaye ; mat aane do
kisee ko kareeb itana ; ki usake
door jaane se insaan khud
se rooth jaaye …

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar shayari

shayari in bewafai

सुनने वाला ही ना सुन पाए तो
ये बात अलग है वरना सन्नाटे
भी आवाज़ दिया करते है
sunane vaala hee na sun
pae to ye baat alag hai
varana sannaate bhee
aavaaz diya karate hai .

जिन्हें वाक़ई बात करना आता है
वो लोग अक़्सर ख़ामोश रहते हैं .
jinhen vaaqee baat karana
aata hai vo log aqsar
khaamosh rahate hain .

दर्द , गम , डर जो भी हैं
बस तेरे अंदर हैं …
खुद के बनाये पिंजरे से निकल
कर देख तू भी एक सिकंदर हैं …
dard , gam , dar jo bhee hain
bas tere andar hain … khud
ke banaaye pinjare se nikal kar
dekh too bhee ek sikandar hain ..

हैरान हूं मैं दिल अब पहले सा
मासूम नहीं रहा पत्थर तो नहीं
बना मगर अब मोम भी नहीं रहा .
hairaan hoon main dil ab
pahale sa maasoom nahin
raha patthar to nahin bana
magar ab mom bhee nahin raha .

तरस जाओगे हमारे लबों से सुनने को
एक लफ्ज भी , प्यार की बात तो क्या
हम शिकायत तक नहीं करेंगे !!
taras jaoge hamaare labon se
sunane ko ek laphj bhee ,
pyaar kee baat to kya ham
shikaayat tak nahin karenge !!

इछाएँ बड़ी बेवफा सी होती है ,
कमबख्त पूरी होते ही बादल जाती है !!
ichhaen badee bevapha see
hotee hai , kamabakht pooree
hote hee baadal jaatee hai !!

gulzar shayari

gulzar shayari

gulzar in bewafai shayari

कितनी भी सिद्दत से रिश्ता निभाओ .
दिखाने वाले अपनी औकत दिखा देते है ,
kitanee bhee siddat se rishta
nibhao. dikhaane vaale apanee
aukat dikha dete hai ,

कौन कहता है कि हम झूठ नहीं
बोलते तुम एक बार खैरियत पूछ
कर तो देखो .
kaun kahata hai ki ham jhooth
nahin bolate tum ek baar
khairiyat poochh kar to dekho .

तेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही
बिकती नहीं माँ मेंहगे होटलों में
आज भी भूख मिटती नहीं ..
teree dibbe kee vo do rotiya
kahee bikatee nahin maan
menhage hotalon mein aaj
bhee bhookh mitatee nahin ..

खता उनकी भी नहीं यारो वो भी
क्या करते बहुत चाहने वाले थे
किस किस से वफ़ा करते ।
khata unakee bhee nahin
yaaro vo bhee kya karate
bahut chaahane vaale the
kis kis se vafa karate .

ये इश्क़ मोहब्बत की ,
रिवायत भी अजीब है ।
पाया नहीं है जिसको ,
उसे खोना भी नहीं चाहते ।
ye ishq mohabbat kee ,
rivaayat bhee ajeeb hai .
paaya nahin hai jisako ,
use khona bhee nahin
chaahate .

gulzar shayari

gulzar shayari

bewafai in gulzar shayari

अकेले आये थे और अकेले ही
चले जाएंगे , हाँ कुछ झूठे लोग
मिले थे दुनिया में , जो कहते थे –
मरते दम तक तुम्हारा साथ निभाएंगे .. !!
akele aaye the aur akele hee
chale jaenge , haan kuchh
jhoothe log mile the duniya
mein , jo kahate the – marate
dam tak tumhaara saath
nibhaenge .. !!

बहक न जाए कहीं ,
लौ की नीयत , होठों से दिया तू .
बुझाया न कर !
bahak na jae kaheen ,
lau kee neeyat , hothon se
diya too …. bujhaaya na kar !

ए – बादल …….. तेरी ” अदा ”
भी मेरे यार जैसी है कभी जी
भर के बरसना कभी बूंद – बूंद
को तरसना ।
e – baadal …….. teree ” ada ”
bhee mere yaar jaisee hai
kabhee jee bhar ke barasana
kabhee boond – boond ko tarasana .

जो प्यार हकीकत मे होता है ,
वो प्यार जिंदगी मे बस एक
बार होता  है
jo pyaar hakeekat me hota
hai , vo pyaar jindagee me
bas ek baar hota hai .

तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे ,
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे ,
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो ,
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे .
tere pyaar ka sila har haal
mein denge , khuda bhee
maange ye dil to taal denge ,
agar dil ne kaha tum bevafa ho ,
to is dil ko bhee seene se
nikaal denge .

gulzar shayari

gulzar shayari

bewafai shayari in hindi

एक रास्ता हूँ मैं , मुसाफ़िर भी हूँ
सजदे में हैं , मैं काफिर भी हूँ बहुत
दूर तक है कहीं कुछ नहीं आगाज म ,
आखिर भी हूँ
ek raasta hoon main , musaafir
bhee hoon sajade mein hain ,
main kaaphir bhee hoon bahut
door tak hai kaheen kuchh nahin
aagaaj ma , aakhir bhee hoon .

न जाने कब खर्च हो गये ,
पता ही न चला .. वो लम्हे ,
जो छुपा कर रखे थे जीने के लिए ..
na jaane kab kharch ho gaye ,
pata hee na chala .. vo lamhe ,
jo chhupa kar rakhe the
jeene ke lie ..

तुम ने तो आकाश बिछाया मेरे
नंगे पैरों में जमीन है पाके भी
तुम्हारी आरजू है शायद ऐसी
ज़िंदगी हसीं है आरजू में बहने
दो प्यासी हूँ मैं , प्यासी रहने दो
रहने दो ना ….
tum ne to aakaash bichhaaya
mere nange pairon mein
jameen hai paake bhee
tumhaaree aarajoo hai
shaayad aisee zindagee
haseen hai aarajoo mein
bahane do pyaasee hoon main ,
pyaasee rahane do rahane do na .

तेरी खुशिओं को सजाना चाहता हूँ ,
तुझे देखकर मुस्कराना चाहता हूँ ,
मेरी जिन्दगी में क्या अहमियत है तेरी ,
ये लब्जों में नही , पास आकर बताना
चाहता हूँ ।

teree khushion ko sajaana
chaahata hoon , tujhe dekhakar
muskaraana chaahata hoon ,
meree jindagee mein kya ahamiyat
hai teree , ye labjon mein nahee ,
paas aakar bataana chaahata hoon .

mukeshrathour8354@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *